Friday, September 24, 2021
spot_img
HomeMain-sliderइंदौर में प्रस्तावित अत्याधुनिक कृषि उपज मंडी के निर्माण को गति प्रदान...

इंदौर में प्रस्तावित अत्याधुनिक कृषि उपज मंडी के निर्माण को गति प्रदान करने के संबंध में बैठक आयोजित

मुख्यमंत्री चौहान के निर्देशों के अनुपालन में व्यापारियों से लिये गये सुझाव

इंदौर: केलोद करताल में प्रस्तावित अत्याधुनिक कृषि उपज मंडी के निर्माण को गति प्रदान करने के संबंध में शुक्रवार को रेसीडेंसी कोठी में बैठक आयोजित की गई है। बैठक में जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट, सांसद शंकर लालवानी, विधायक मालिनी गौड़, विधायक रमेश मेंदोला, विधायक आकाश विजयवर्गीय, पूर्व महापौर कृष्ण मुरारी मोघे, पूर्व विधायक जीतू जिराती, पूर्व विधायक सुदर्शन गुप्ता, पूर्व IDA अध्यक्ष मधु वर्मा, गौरव रणदिवे, कलेक्टर मनीष सिंह सहित अन्य जनप्रतिनिधि, मण्डी से जुड़े व्यापारीगण और संबंधित विभागों के अधिकारी मौजूद रहे।

बैठक में कलेक्टर मनीष सिंह ने बताया कि छावनी स्थित कृषि उपज मंडी को केलोद करताल स्थानांतरण कर स्मार्ट कृषि मंडी का निर्माण प्रस्तावित है। उन्होंने बताया कि उक्त स्मार्ट कृषि मंडी 104 एकड़ की भूमि पर बनाई जा रही है। विगत दिवस अपने अल्प प्रवास के दौरान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने निर्देश दिए थे कि इंदौर में बनाई जा रही स्मार्ट मंडी का निर्माण बेहतर से बेहतर तरीके से किया जाए और इसे देश की श्रेष्ठ मंडी बनाया जाए। उन्होंने निर्देश दिए थे कि इस संबंध में सभी संबंधित व्यापारियों से भी सुझाव प्राप्त किये जाए।

इसी तारतम्य में आज की बैठक आयोजित की गई है। बैठक में सभी संबंधित व्यापारीगणों से सुझाव प्राप्त किए गए। सभी व्यापारी बंधुओं ने सर्व सहमति से मुख्यमंत्री चौहान को धन्यवाद प्रकट किया। उन्होंने कहा कि इंदौर में बनाई जा रही स्मार्ट मंडी देश नहीं बल्कि विश्व स्तर पर प्रदेश को नई ऊंचाइयां दिलाएगी। व्यापारीगणों ने सुझाव दिया कि प्रस्तावित स्मार्ट कृषि मंडी में रेलवे और रोड कनेक्टिविटी प्रदान की जाए, साथ ही किसानों एवं व्यापारियों की सुविधा के लिए वेयर हाउस तथा कोल्ड स्टोरेज की व्यवस्था भी की जाए। किसानों के उत्पादन की रिफायनिंग तथा ई-बैंक सुविधा भी प्रदान की जाए।

विभिन्न प्रांतों की कृषि मंडियों की बेस्ट प्रैक्टिसेज को अपनाया जायेगा

मंत्री तुलसीराम सिलावट ने कहा कि व्यापारियों किसानों और हम्माल का प्रतिनिधिमंडल गठित किया जाए। देश के विभिन्न प्रांतों में जो सर्वश्रेष्ठ मंडी है उन्हें चिन्हित कर प्रतिनिधिमंडल को वहां भेजा जाए। इस तरह हम इंदौर में बनाई जा रही स्मार्ट कृषि मंडी में देश भर की मंडियों की बेस्ट प्रैक्टिसेज को जोड़ सकेंगे। उन्होंने कहा कि यह मंडी ना केवल आधुनिक होगी बल्कि सर्व सुविधायुक्त भी होगी। मंत्री सिलावट ने कहा कि आज की बैठक में दिए गए हर सुझाव पर विचार किया जाएगा और इंदौर में निर्मित की जा रही मंडी पूरे देश के लिए मॉडल मंडी के रूप में उभर कर आएगी।

सांसद शंकर लालवानी ने कहा कि इंदौर में बनायी जा रही स्मार्ट कृषि मंडी के बेहतर विकास के लिए कंसल्टेंट्स को नियुक्त किया गया है जिनकी सहायता से मंडी के निर्माण की कार्यनीति बनाई जा रही है। उन्होंने कहा कि कृषि मंडी को बेहतर कनेक्टिविटी प्रदान करने के लिए उसके समीप लॉजिस्टिक हब बनाने का भी प्रयास किया जा रहा है। पूर्व महापौर मोघे ने कहा कि इंदौर में बनाई जा रही स्मार्ट कृषि मंडी से व्यापार में वृद्धि मिलेगी तथा हमारी कोशिश यह होनी चाहिए कि कृषि से जुड़ी सभी उद्योग भी मंडी के पास ही स्थापित किये जाए। जिससे किसानों एवं व्यापारियों को दुगना लाभ प्राप्त हो सके।

Spread the love
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

Spread the love