Friday, September 24, 2021
spot_img
HomeMain-sliderइंदौर में लगा कोर्स नेटवर्क: गूगल से ज्यादा सटीक नक्शे दिखेंगे, 80...

इंदौर में लगा कोर्स नेटवर्क: गूगल से ज्यादा सटीक नक्शे दिखेंगे, 80 किमी में मैपिंग, पूरे मप्र में 90 सिस्टम लगेंगे, 10 जगह और लगना है

इंदौर: गूगल से भी सटीक जानकारी पाने के लिए इंदौर जिले में सर्वे ऑफ इंडिया ने नया कोर्स (कम्प्यूटर ऑपरेटिंग रिफरेंस सिस्टम) नेटवर्क स्थापित किया है। यह सिस्टम कलेक्टोरेट के पास नए चुनाव भवन में लगा है। इस सिस्टम से 80 किमी की रेंज में पूरी मैपिंग की गणना, एक-एक कोने की जानकारी सैटेलाइट सिस्टम के माध्यम से रिकाॅर्ड पर ली जाएगी। पूरे मप्र में 90 सिस्टम लगाए जा रहे। अब तक 80 लग चुके हैं।

कुछ और जिलों में ये सिस्टम लगने के बाद टेस्टिंग शुरू होगी। इसके बाद यह सिस्टम पूरे देश में एक साथ लागू किया जाएगा, जिससे देहरादून स्थित सेंटर पर सभी रिकाॅर्ड की जानकारी जमा होगी। दो से तीन साल में यह नेटवर्क वर्किंग में आ जाएगा और मोबाइल एप के माध्यम से इस जानकारी का उपयोग आम व्यक्ति भी कर सकेगा। एक समान जियो-पोजिशनिंग इन्फ्रास्ट्रक्चर के लिए यह सिस्टम तैयार हो रहा है।

इतना सटीक कि एक मीटर से कम अंतर रहेगा
इस पूरे सिस्टम की सटीकता गूगल से भी अधिक बताई जा रही है। किसी गली, जगह की जानकारी में एक मीटर से भी कम अंतर रह जाएगा। इसमें हर जिले की एक-एक इंच की जमीन की जानकारी अपलोड होगी। इससे फसल सर्वे करना, राजस्व रिकाॅर्ड रखना, जमीन की नपती एक दम सटीक तरीके से रखना आसाना होगा।

250 साल बाद इस तरह का प्रोजेक्ट तैयार हुआ
साल 1767 में ब्रिटिश सर्वेयर जॉर्ज एवरेस्ट और उनके उत्तराधिकारी विलियम लैंबटन ने पहली बार वैज्ञानिक रूप से देश का नक्शा तैयार किया था। इसके बाद यह मैप बनाया जा रहा है।

सैटेलाइट से लिंक रहेगा, एक सेटअप पर डेढ़ करोड़ खर्च
सर्वे ऑफ इंडिया के इंजीनियर और इंदौर में सेटअप लगाने वाले राकेश यादव ने कहा एक सेटअप में डेढ़ करोड़ का खर्च आता है। सेटअप के बाद टेस्टिंग, चेकिंग होगी, इससे बारीक से बारीक जानकारी मिलेगी।

ज्ञानेंद्र पाठक, डेली खबर, म.प्र.

Spread the love
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

Spread the love