Friday, September 24, 2021
spot_img
HomeCrimeगडचिरोली जिल्हापरिषद घोटाले के कारनामे पूरे महाराष्ट्र में अव्वल नंबर 1 पर

गडचिरोली जिल्हापरिषद घोटाले के कारनामे पूरे महाराष्ट्र में अव्वल नंबर 1 पर

गडचिरोली: गडचिरोली जिल्हा परिषद के पंचायत विभाग के कारनामे एक से बढ़कर एक, ग्राम पंचायत में निकलने वाली मालमत्ते की खरेदी टेंडर बिना जाहिरात के केवल एक ही हितसंन्धहित ट्रेडर्स को सालो मिलने की खबर जनता को समझ नही आ रही है, की आखिर एक ही साक्स को कैसे मिल रहा है। आखिर माजरा क्या है?

ग्राम पंचायत की कोई भी सामान खरीदना हो तो माउली ट्रेडर्स को ही कैसे मिल जाता है। स्ट्रीट लाइट खरीदना हो या लड़कियों को वाटप के लिए प्याड हो या कोई भी साहित्य हो बिना जाहिरात के टेंडर हो जाता है और एक ही कंपनी माउली ट्रेडर्स मालक रूपेष नामक व्यक्ति को मिल जाता है कैसे?

कंप्यूटर साहित्य खरीदना हो तो निर्मल कंप्यूटर्स मालक रूपेष को मिलता है कैसे? कमाल का शासकीय टेंडर नियम, सुत्रो से मिली जानकारी अनुसार एक ही व्यक्ति अलग अलग नामो से अलग अलग टेंडर ऑनलाइन प्रोक्रिया से भरते हैं दिखवट के लिए और जिल्हापरिषद के ऑनलाईन प्रोक्रिया अधिकारियों से पहले से साठ गाठ के चलते एक ही कंपनी को ग्राम पंचायत की खरेदी विक्री टेंडर प्राप्त हो जाता है।

इन घोटाले में ग्राम पंचायत सचिव सरपंच से लेकर जिल्हा परिषद के बड़े अधिकारियों की साठ गाठ सालो से चलते रही है।वैसे देखने को मिल रहा है, कि मुलचेरा पंचायत समिति अंतर्गत शांतिग्राम ग्राम पंचायत गोविंदपुर कलीनगर कोठारी और भी कई ग्रामपंचायत के टेंडर में लगातार घोटाले कर प्रशासन के लाखों के अफरातफरी किया गया है।

15 दिन पहले शांतिग्राम ग्राम पंचायत के खरेदी में माउली ट्रेडर्स को ही टेंडर मिला परंतु बिना कोई जाहिर सूचना के टेंडर पास हो गए और टेंडर माउली ट्रेडर्स को मिला, कोई छोटा मोटा गड़बड़ी नही गडचिरोली जिल्हे के जिल्हा पंचायत विभाग में सालो से बड़े अधिकारियो के मिलीभगत से एक बाकायदा रॉकेट तैयार कर ग्राम पंचायत के खरेदी में घोटाले को अंजाम दिया जा रहा है।

जनता प्रशासन से गडचिरोली मुल्चेरा के सभी ग्राम पंचायत के खरेदी के बीते 5 सालो कि हिसाभ किताब की जांच करने की उम्मीद जनता कर रही है। पिछले कुछ दिन पहले जिल्हापरिषद अध्यक्ष माननीय अजय भाऊ कंकाड़वारजी ने मुलचेरा पंचायत समिति सभागृह में 6 जुलाई को ग्राम पंचायत अडावा बैठक को सम्बोधित करते निर्मल कंप्यूटर और माउली ट्रेडर्स के नाम पर ही कैसे सभी मुल्चेरा के ग्राम पंचायत के साहित्य खरेदी की गई।

क्यों किसी और ट्रेडर्स को टेंडर्स नही मिली। वैसा सूचना जनता के सामने जानकारी दी थी, फिर भी टेंडर्स निर्मल कंप्यूटर और माउली ट्रेडर्स को ही मिल रही है। जानकारी होने के बावजूद भी, प्रशासन मौनी बाबा की चोला पहनकर घोटाले को बढ़ावा दे रही है। प्रशासन के लाखों करोड़ के घोटाले बाज घोटाले करते रहेंगे और जनता के पैसे का बंटाधार होता रहेगा। सरकार के नुकशान होने से बचाये जाये जनता की मांग।

गडचिरोली से ज्ञानेंद्र बिश्वास

Spread the love
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

Spread the love