Sunday, August 1, 2021
spot_img
HomeMain-sliderपूर्व विधायक प्रताप सिंह पहुंचे दूरस्थ आदिवासी गांव,ग्रामीणों की सुनी समस्या,

पूर्व विधायक प्रताप सिंह पहुंचे दूरस्थ आदिवासी गांव,ग्रामीणों की सुनी समस्या,

सिग्रामपुर,दूरस्थ/ग्रामीणों ने पूर्व विधायक से की घटिया सड़क तालाब निर्माण की शिकायत,दूरस्थ गांव देवरी आदिवासी बच्चों को प्राथमिक शिक्षा के लिए जाना पड़ता है 3 किलोमीटर दूर देवरी खमरिया में एक पखवाड़े से ट्रांसफार्मर खराब लो वोल्टेज की समस्या से जूझ रहे ग्रामीण पूर्व विधायक प्रताप सिंह लोधी ने देर शाम दूरस्थ गांव मैं पहुंच कर ग्रामीणों की समस्या सुनी सिग्रामपुर अंचल के ऊपर पहाड़ आदिवासी बहुल ग्राम पंचायत चोराई के ग्राम देवरी,खमरिया,गुररहा के ग्रामीणों बीच पहुंचकर उनकी समस्याएं सुनी।

जिसमें गांव खमारिय पहुचने पर ग्रामीणों ने बताया कि बारिश के समय मैं भी ग्रामीण पेयजल संकट से जूझ रहे हैं गांव में एक ही हेंडपंप है करीब 10 दिनों से खराब है,देवरी खमारिय ट्रांफार्मर की खराब होने की वजह से लो वोल्टेज समस्या बनी हुई है इसी तरह चोराई गांव में रखा एक ट्रांसफार्मर खराब है ग्रामीणों ने पूर्व विधायक को बताया एवं ग कि देवरी गांव में प्राथमिक शाला स्कूल न होने बजह से बच्चों को प्राथमिक शिक्षा के लिए 3 किलोमीटर की दूरी तय करना पड़ती है।

जिसकी वजह से आदिवासी बच्चों को प्राथमिक शिक्षा प्राप्त करने में कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है जिसके चलते छोटे-छोटे बच्चे स्कूल जाने से कतराते हैं जिनकी प्राथमिक शिक्षा पर असर पड़ रहा है जबकि देवरी गांव में प्राथमिक शाला के लिए पर्याप्त छात्र संख्या मौजूद है बावजूद इसके प्राथमिक शाला नहीं होने से बच्चों को लगभग 2 3 किलोमीटर दूर जमुनिया में प्राथमिक शाला स्कूल जाना पड़ता ग्रामीणों की समस्या सुनकर पूर्ब विधायक प्रताप सिंह ने आश्वासन दिया कि आपके गांव में प्राथमिक स्कूल खुलवाने के लिए संबंधित विभागीय अधिकारियों से बात करके समस्या का समाधान करवाया जाएगा।

समस्याओं और प्राथमिक स्कूल की मांग से कलेक्टर दमोह को अवगत कराता हूं वहीं पेयजल संकट से जूझ रहे गांव गुररहा के ग्रामीणों ने बताया कि गांव में पर्याप्त जल स्रोत नहीं होने की वजह से ग्रामीण गंदा पानी पीने के लिए मजबूर हैं पूरे गांव की आबादी के लिए एकमात्र पेयजल स्रोत कुआं है जिस पर पूरा गांव पेयजल के लिए आश्रित है ग्रामीणों के द्वारा नवीन हैंडपंप की माग की गई है वही ग्रामीणों के द्वारा बताया गया कि गुररहा में बनाई गई सड़क का निर्माण घटिया तरीके से होने की बजह से पूरी सड़क नुकीले पत्थरों से भरी जिसके चलते ग्रामीण रोजाना नुकीले पत्थरों के उबड़ खाबड़ सड़क से लहूलुहान होकर सफर तय करने को मजबूर है।

यही हाल मनरेगा फॉरेस्ट के द्वारा निर्मित लाखों की लागत से नवीन गुररहा तालाब का है जहां पर निर्माण एजेंसी वन विभाग और मनरेगा के द्वारा बनाया गया गुररहा तालाब निर्माण में जमकर भ्रष्टाचार किया गया जिसके चलते ना ही पूर्ण रूप गुणवत्तापूर्ण सड़क निर्माण किया गया और ना ही तालाब किया गया और निर्माण कार्य मे लीपापोती करते हुए निर्माण एजेंसी के द्वारा लाखों की लागत राशि खुद पुर्द करने की शिकायत पूर्व विधायक से की गई है।

ग्रामीणों ने बताया शासन के द्वारा सड़क निर्माण व तालाब निर्माण के लिए लाखों रुपए खर्च करने के बावजूद जहां ग्रामीणों को घटिया सड़क से कष्टप्रद सफर तय करना पड़ रहा है वही घटिया निर्माण से तालाब अधिक बारिश होने की की स्थिति में फूटने की आशंका जताते हुए तालाब से लगे गांव बा खेतिहर भूमि डूबने का संकट खड़ा हो गया है ग्रामीणों की समस्या सुनते हुए पूर्व विधायक ने घटिया तरीके से बनाई गई सड़क व तालाब निर्माण एजेंसी की जांच की मांग जिला प्रशासन से की गई है पूर्व विधायक के भ्रमण के दौरान गोविंद तिवारी प्रमोद धनगर प्रेम सिंह मालगुजार दीपक यादव भानु सिंह कैलाश सिंह वीर सिंह की मौजूद रहे।

मनोहर शर्मा/दमोह

Spread the love
RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments

Spread the love