Tuesday, June 15, 2021
spot_img
HomeBreakingsबंगाल में BJP को बड़ा झटका, TMC में वापसी करेंगे मुकुल रॉय

बंगाल में BJP को बड़ा झटका, TMC में वापसी करेंगे मुकुल रॉय

BJP के बड़े नेता मुकुल रॉय अपने बेटे सुभ्रांशु के साथ तृणमूल कांग्रेस (TMC) में वापसी कर सकते हैं. मुकुल रॉय आज शाम मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से पार्टी मुख्यालय में मिल सकते हैं.

पश्चिम बंगाल में चुनाव हारने के बाद भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) को एक बड़ा झटका लगने वाला है. बीजेपी के बड़े नेता मुकुल रॉय अपने बेटे सुभ्रांशु के साथ तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) में वापसी कर सकते हैं. मुकुल रॉय आज शाम मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से पार्टी मुख्यालय में मिल सकते हैं. इस बैठक में अभिषेक बनर्जी भी मौजूद रह सकते हैं.

आपको बता दें कि विधानसभा चुनाव में ममता बनर्जी को मिली बड़ी जीत के बाद कई पुराने सहयोगी टीएमसी में वापस आना चाहते हैं. इसमें मुकुल रॉय का नाम सबसे ऊपर था. मुकुल रॉय, बीजेपी में शुभेंदु अधिकारी के बढ़ते कद से बेचैन बताए जा रहे थे. यही वजह है कि वह अपनी पुरानी पार्टी में वापस लौटना चाहते हैं.

सूत्रों का कहना है कि पिछले एक हफ्ते में मुकुल रॉय ने ममता बनर्जी से फोन पर 4 बार बात की. चुनाव से पहले ही मुकुल, टीएमसी में आना चाहते थे. दरअसल, मुकुल को पहले दिलीप घोष से दिक्कत थी. ज्वाइन करने के बाद उन्हें पार्टी ऑफिस में जगह नहीं मिली. कैलाश विजयवर्गीय, मुकुल के गुरु थे. बीजेपी ने कैलाश को बंगाल से दूर कर दिया है.

सौगत रॉय ने मुकुल की घर वापसी के दिए थे संकेत

चुनाव के नतीजों के बाद ही मुकुल रॉय फिर से टीएमसी में वापस आने चाहते थे. टीएमसी नेता सौगत रॉय ने कहा था कि ऐसे बहुत से लोग हैं, जो अभिषेक बनर्जी के संपर्क में हैं और वापस आना चाहते हैं,मुझे लगता है कि पार्टी छोड़कर लौटने वालों को दो कैटिगरीज में बांटा जा सकता है, ये हैं- सॉफ्टलाइनर और हार्डलाइनर.’

टीएमसी नेता सौगत रॉय ने कहा था कि सॉफ्टलाइनर वे हैं, जिन्होंने पार्टी तो छोड़ी, लेकिन कभी ममता बनर्जी का अपमान नहीं किया, हार्डलाइनर वे हैं, जिन्होंने ममता बनर्जी के बारे में सार्वजनिक रूप से बयान दिए. मुकुल रॉय ने ममता बनर्जी पर निजी तौर पर कोई आरोप नहीं लगाए थे. उन्हें सॉफ्टलाइनर माना जाता है.

पिछले दिनों कोलकाता में हुई बीजेपी की मीटिंग में मुकुल रॉय नहीं पहुंचे थे. इसके अलावा ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी मुकुल रॉय की पत्नी को देखने के लिए अस्पताल पहुंचे थे.  इन दो घटनाओं के बाद से कयास लग रहे थे कि मुकुल रॉय बीजेपी छोड़ सकते हैं. मुकुल रॉय टीएमसी छोड़ने वाले सबसे पहले नेता थे.

TMC ने मुकुल रॉय को निकाला था बाहर

पार्टी विरोधी गतिविधियों के आरोप में टीएमसी ने मुकुल रॉय को 6 साल के लिए बाहर कर दिया था. TMC में मुकुल रॉय का कद कभी ममता बनर्जी के बाद दूसरे नंबर हुआ करता था. उन्होंने टीएमसी छोड़ी तो बीजेपी का दामन थाम लिया, वे 1998 से ही बंगाल की राजनीति में हैं. मुकुल रॉय का नाम नारदा स्टिंग केस में भी आया था.

मुकुल रॉय अपने करियर की शुरुआत में यूथ कांग्रेस में हुआ करते थे, उस दौर में ममता बनर्जी भी यूथ कांग्रेस में ही थीं. तभी से मुकुल और ममता के बीच राजनीतिक करीबियां बढ़ी थीं. अपने पिता के पीछे पीछे ही उनके बेटे सुभ्रांशु रॉय ने भी भाजपा का दामन थाम लिया था. बीजेपी ने सुभ्रांशु को टिकट भी दिया था, लेकिन वह चुनाव हार गए.

Spread the love
RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments

Spread the love