Sunday, August 1, 2021
spot_img
HomeMain-sliderभगवान जागेश्वर नाथ की नर्मदा जल से अभिषेक इत्र दीप आरती से...

भगवान जागेश्वर नाथ की नर्मदा जल से अभिषेक इत्र दीप आरती से होती है दिन की शुरुवात।

दमोह / भगवान देव श्री जागेश्वर नाथ महादेव तेरहवें ज्योतिर्लिंग की मान्यता है। स्वयंभू शिव लिंग का स्वरूप बड़ा ही दिव्य व सौम्य है। भगवान की दिनचर्या सुबह सुबह नर्मदा जल से स्नान दीप आरती के साथ होती है। सुबह 7:00 बजे वरिष्ठ पुजारियों के द्वारा नित्य शुद्ध गाय के दूध दही घी शहद शक्कर से पंचामृत अभिषेक होता है। तत्पश्चात रुद्री पाठ कर भगवान जागेश्वर नाथ महादेव की दीप आरती पूजन पंडित केदारनाथ दुबे जी मंदिर के पुजारी नीरज नायक जागेश्वर दुबे रसिक बिहारी दुबे द्वारा की गई। दोपहर 12 बचकर 30 मिनट पर भोग अर्पण के साथ पट बन्द बंद होते हैं। जो दोपहर 3:00 बजे के बाद भक्तों को दर्शन पूजन के लिए खुलते हैं। रात्रि 8:00 बजे संध्याकालीन श्रृंगार आरती के बाद भगवान के शयन आरती की जाती है।

मनोहर शर्मा/दमोह

Spread the love
RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments

Spread the love