Tuesday, June 15, 2021
spot_img
HomeEditorials"भारत जैसे देश मे भारतीय जनता पार्टी" "मोदी जी" की टीम के...

“भारत जैसे देश मे भारतीय जनता पार्टी” “मोदी जी” की टीम के चुनाव हार के मुख्य “विश्लेषण”,

साथियों,

भारत जैसे देश में जहाँ सभी पार्टियाँ चुनाव जीतने के लिए लगातार अपने पार्टियों के द्वारा, सत्ता में रहते हुए सरकार के द्वारा की गई कार्यो के द्वारा और आगे की जाने वाली जनहित कार्यक्रमों के द्वारा,जनता से लगातार संपर्क कर अपनी जीत पर आश्वस्त होती हैं।

आश्चर्यजनक है, पर ये कटु सत्य भी है जिसमें हमें यह स्वीकार करना होगा कि सही और विकास के विभिन्न कार्यक्रम करते हुए भी यदि भारतीय जनता पार्टी चुनाव में जीत नही प्राप्त कर रही है तो उसकी पूर्णतः जिम्मेदारी “मैं” शब्द में छुपा हुआ है। या इसे मैंने भारतीय जनता पार्टी “मोदी जी” को हरा दिया कहना गलत नही होगा।

अब आप मेरे इस कथन में “मैंने” पर जो जोर देकर कहना चाहा हैं, वो “मैंने” कोई और नही “मैं” से ही है।
आप जानना चाहते हो न, कि भारतीय जनता पार्टी “मोदी जी” और उनके इतने अच्छे जनहित कार्यक्रम, सभी भारतीय लोगोँ की विकास की चिंता, विश्व पटल पर भारत को भविष्य में विश्व गुरू कहलाने योग्य बनाने के लिए दिन रात एक कर मेहनत करने वाले भारतीय जनता पार्टी “मोदी जी” को “मैं” ने ही हरा दिया।
इस छोटे से शब्द “मैं” में कई स्वरूप छिपे हुए हैं। जिसकी आपको धैर्य से अवश्य चिंतन करना चाहिए।

इस समाज में रहने वाले “मैं” प्रबुद्धजन, आलोचक, औऱ मोदी जी के नीतियों का प्रबल प्रशंसक होते हुए भी “मैं” प्रचार के विभिन्न माध्यमों से उनका तार्किक विश्लेषण कर स्वयं एवं अपने आस पास के जनमानस को भी संतुष्ट करता हूँ, पर इन सब के बाद भी दैनिक व्यस्तताओं में मुझे समय ही नहीं मिला कि “मैं” वोट डालने जाऊं।

इस समाज में “मैं” एक राष्ट्रभक्त व्यापारी हूँ। नोट बंदी, जी एस टी, आयकर आदि के प्रावधानों से प्रारंभिक जटिलताओं के खत्म होने के बाद आज व्यापार में बहुत सुगमता, सुरक्षा और संतुष्टि अनुभव करता हूँ, और भारतीय जनता पार्टी “मोदी जी” के प्रयासों से सहमत होते हुए भी, अपनी व्यापारिक व्यस्तताओं के कारण “मैं” वोट डालने ही नहीं जा पाता!

इस समाज मे “मैं” नौकरीपेशा कर्मचारी हूँ। मोदीजी आपका ऋणी रहूँगा, क्योंकि समय पर वेतन, कार्यस्थल में मूलभूत सुविधायें, परिवार की सुरक्षा, सरकार के द्वारा हमारी भावी भविष्य के लिए लिए गए कई महत्वपूर्ण निर्णय से ही सब संभव हो पाया। चुनाव में वोट डालने के लिए मुझे मिली छुट्टी से “मैं” परिवार के साथ छुट्टी का आनंद लेने के लिए पिकनिक का प्रोग्राम बनाया और सपरिवार उसका आनंद लिया, जिसके कारण “मैं” वोट नहीं डाल पाया।

मोदी जी, “मैं” इस देश का अन्नदाता किसान हूँ। खाद, बिजली, पानी, न्यूनतम समर्थन मूल्य, फसल बीमा, घर-घर में रसोई गैस, पक्के शौचालय, गाँव से शहरों तक की पक्की सड़कें, बिना ब्याज ऋण, मुआवजा , इत्यादि के लिये आपका आभारी हूँ। चूंकि, आज ही मुझे फसल कटवाना है, और आज ही चुनाव वोटिंग भी होना है। अब फसल को कटाईदारों के भरोसे छोड़कर “मैं” वोट डालने कैसे जा सकता हूँ, इस कारण “मैं” वोट नहीं डाल पाया।

मोदी जी, “मैं” शान्तिप्रिय आम नागरिक हूँ। आपके कार्यकाल में सपरिवार एक शांत माहौल में इस देश मे रह रहा हूँ, जिसके लिये दिल से आभार प्रकट करते हुए कहना चाहता हूं कि, सीमापार आतंकी ठिकानों को ध्वस्त करना, धारा-370 को हटाना, राममंदिर निर्माण का भूमिपूजन, तीन तलाक निरोधक कानून, जैसे अनेक ऐतिहासिक कार्य आपके कार्यकाल में आपके द्वारा किये गए, जिसके लिए आपको कोटि कोटि प्रणाम। मेरा और मेरा परिवार आपको बारम्बार नमन करता है।

अन्ततः,

मोदीजी भले ही आपने लोगों में, राष्ट्रभक्ति की ज्योति जगा दी, देश हित मे सर्वस्व न्यौछावर करने का प्रण करने वालों की फौज खड़ी कर दी, भले ही भारतीय जनता पार्टी को संसार की सबसे बड़ी पार्टी बना डाली, जन जन के कल्याण के लिए बहुत कुछ किये, पर विडंबना है कि इन सबके बाद भी, अपने ही वोटरों को उस बहुमूल्य वोट डालने की महत्ता आप नही समझा पाए या “मैं” नही समझ पाया।

साईंलक्ष्मी रेपल्ली

Spread the love
RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments

Spread the love