Friday, September 24, 2021
spot_img
HomeEditorialsसाथियों के साथ ब्यारमा नदी में नहाने गए 40 वर्षीय युवक पर...

साथियों के साथ ब्यारमा नदी में नहाने गए 40 वर्षीय युवक पर मगरमच्छ ने बोला हमला हालत गंभीर,साथियों ने शोर मचाकर पत्थरों की मार से मगरमच्छ के चवड़े से बचाई युवक की जान

●जख्मी युवक को उपचार के लिए तेंदूखेड़ा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लाया गया चाहे वक्त की हालत गंभीर होने पर चिकित्सकों ने जबलपुर किया रेफर
(दमोह से मनोहर शर्मा की रिपोर्ट )
मध्यप्रदेश/दमोह– तेंदूखेड़ा जनपद पंचायत के अंतर्गत आने वाली ग्राम पंचायत सेहरी जो झलौन एवं क्षापन वन रेंजो के पास है गुरुवार की सुबह 11 बजे प्रेमलाल यादव अपने तीन साथियों के साथ ब्यारमा नदी में नहाने के लिए गया था नदी पहुंच कर जैसे ही प्रेमलाल ने नहाने के लिए घाट से पैर नदी में रखा वैसे ही नदी के गहरे पानी में ताक लगाए मगरमच्छ मैं युवक का पैर जबड़े में दबाकर नदी मैं खींच लिया और गहरे पानी मैं ले जाने लगा जैसे हे साथियों ने युवक को नदी में डूबते देखा नदी घाट पर पढ़े बोल्डर पत्थरों सी शोर मचा कर मगरमच्छ पर मारना शुरू कर दिया और मगरमच्छ पर पड़े पत्थर बोल रहा हूं की मार शोर मगरमच्छ के जबड़े पकड़ कुछ ढीली पड़ते ही घबराहट के मारे नदी से नदी तट पर खड़े अपने साथियों को युवक ने हाथ आगे बढ़ा दिया और साथियों ने युवक का हाथ पकड़कर नदी से बाहर खींचकर मौत के मुहाने से युवक जान तो बचा ली गई लेकिन मगरमच्छ के जबड़े से हमला करने पर युवक का एक पैर बुरी तरह से जख्मी हो गया साथियो जे साथ परिजन जख्मी हालत में युवक को उपचार के के लिए तेंदूखेड़ा समुदायिक केंद्र पर लेकर पहुंचे जहां जहां पर चिकित्सकों के द्वारा प्राथमिक उपचार की तत्पश्चात जबलपुर मेडिकल कालेज रेफर किया गया किया गया है प्रेमलाल यादव के परिजन के परिजनों ने बताया युवक अकेला नदी नहाने गया होता तो मगरमच्छ के हमले से जान नहीं बच पाती गनीमत यह रही युवक ने हिम्मत नहीं हारी और साथियों ने साहसिक कदम उठाकर मगरमच्छ पर पत्थरों से हमला बोलकर युवक की जान बचा ली ज्ञात हो कि
नौरादेही अभ्यारण से निकलने वाली व्यारमा में नदी मैं काफी संख्या मगरमच्छ पाए जाते हैं जिससे नदी जाने वाले लोगों को सतर्कता बरतनी होगी व्यारमा नदी नौरादेही अभ्यारण से भी निकली हुई है जिसके नजदीक तारादेही, क्षलौन ,तेजगढ़ के क्षापन ,सर्रा नौरादेही अभ्यारण की बन परिक्षेत्रो से होकर निकलती है जहां पर वनक्षेत्रो के आसपास बसे गांव के ग्रामीणों मगरमच्छ गर्मी बारिश में अच्छी खासी संख्या में दिखाई देते हैं और कभी-कभी तो नदी का पानी कम होने पर मगरमच्छ गांव में भी घुस जाते हैं मार्च 21 में नौरादेही अभ्यारण में मगरमच्छों की गणना में लगभग 215 मगरमच्छ की संख्या पाई गई थी जिसमें सबसे ज्यादा 84 मगरमच्छ व्यारमा नदी में ही हैं जिससे व्यारमा नदी जाने से पहले हमलावर हो रहे मगरमच्छ से ग्रामीणों को सतर्कता की जरूरत है

Spread the love
RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

Most Popular

Spread the love