Wednesday, August 17, 2022
spot_img
Homeसंस्कृतिसिरगिट्टी के प्राचीन स्वयंभू मंदिर में महाकालेश्वर को विराजा गया,नेता प्रतिपक्ष पुत्र...

सिरगिट्टी के प्राचीन स्वयंभू मंदिर में महाकालेश्वर को विराजा गया,नेता प्रतिपक्ष पुत्र व महिला आयोग की पूर्व अध्यक्ष ने टेका माथा

छत्तीसगढ़ / बिलासपुर / 26 जुलाई 2022 /

  • प्रतिदिन श्रंगार कभी भभूती तो कभी फूलो से सजे रहते है महादेव
  • नेता प्रतिपक्ष सुपुत्र पुष्पेंद्र कौशिक व पूर्व महिला आयोग की अध्यक्ष हर्षिता पांडेय ने टेका मत्था
  • निगम क्षेत्र सिरगिट्टी के वार्ड क्रमांक 10 स्थित प्राचीन स्वंयम्भू मंदिर में श्रावण मास में प्रतिवर्ष की भांति इस वर्ष भी सभी में खुशहाली बनी रहे इस कामना को लेकर शिव भक्तों द्वारा शिवलिंग व शिव प्रतिमा उज्जैन में विराजित महाकालेश्वर महाराज रूप स्वरूप विराजित कराया गया है.प्रतिदिन मंत्रोच्चार के साथ भगवान का अलग अलग श्रंगार किया जाता है भगवान की मूर्ति को कभी भभूती तो कभी फूलो से सजाया जा रहा है.शाम 4 बजे से 7 बजे तक पूर्ण विधिवत रुद्राभिषेक कराया जा रहा है जिसमे महराज निखिल तिवारी ने बताया की रुद्राभिषेक यूं तो कभी भी किया जाए यह बड़ा ही शुभ फलदायी माना गया है, लेकिन सावन में इसका महत्व कई गुणा होता है शिवपुराण के रुद्रसंहिता में बताया गया है रुद्राभिषेक में भगवान शिव का पवित्र स्नान कराकर पूजा-अर्चना की जाए सनातन धर्म में सबसे प्रभावशाली पूजा मानी जाती है जिसका फल तत्काल प्राप्त होता है.इससे भगवान शिव प्रसन्न होकर भक्तों के सभी कष्टों का अंत करते हैं और सुख-शांति और समृद्धि प्रदान करते हैं,छेत्र वाशियो में खुशहाली की कामना करते हुए यह पूजा भृगु अवस्थी परिवार सहित आसपास की महिलाएं व बच्चे पूरे एक माह तक इस पुुजा में सम्मलित रहते है प्रति सोमवार यहां दर्शनार्थियों का रेला लगा रहता है दूर दूर से लोग भगवान के मोहक रूप के दर्शन करने पहुच रहे है

(प्राचिन काल से पूजे जा रहे स्वयंभू)
प्राचीन स्वंयम्भू मंदिर में प्रतिवर्ष की भांति इस वर्ष भी सभी में खुशहाली बनी रहे इस कामना को लेकर शिव भक्तों द्वारा शिवलिंग को पितांबरी मे तब्दील की गई है.पूर्व मे शिव प्रतिमा उज्जैन में विराजित महाकालेश्वर महाराज रूप स्वरूप विराजित कराया गया,बुजुर्गों की माने तो सन 1963 में तालाब के मेड से एक पत्थर नुमा आकार का शिवलिंग देखा गया,जो तिरछा था गाँव के लोगो ने मिलकर उसे निकालने व सीधा करने कमर तक मिट्टी की खुदाई की परन्तु शिवलिंग को हिला न सके उक्त गड्ढे में पानी भी डाला गया परन्तु उससे भी शिवलिंग नही हिला लोगों ने वहाँ पूजा अर्चना करना प्रारंभ कर दिए,लोगो में आस्था इतना जटिल हो गया कि चंदा करके वहाँ छोटा सा मंदिर बनवाए देखते देखते लोगो का आस्था बढ़ता गया और सन 1997 से अब तक मंदिर का दो बार जीर्णोद्धार किया जा चुका है ।

Spread the love
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments

Ankur Upadhayay on Are you Over Sensitive?
Pooja Solanki on Idea and Concept of Change
Spread the love