Saturday, December 10, 2022
spot_img
HomeMain-sliderसूरजागढ़, गड़चीरोली लौह प्रकल्प के प्रोजेक्ट में स्थानीय के साथ धोखा और...

सूरजागढ़, गड़चीरोली लौह प्रकल्प के प्रोजेक्ट में स्थानीय के साथ धोखा और देश की राजस्व की खुलेआम चोरी

गड़चिरोली जिला अंतर्गत एतापल्ली सूरजागढ़ लोह प्रकल्प से कच्चा खनिज उत्खनन प्रशासन से नीलाम के माध्यम से लिज पर लिया तो गया। परंतु अब देश के आजादी के बाद से अबतक जितनी भीं देश के अर्थ व्यवस्था कों खोखला करने में घोटाला हुई।जैसे 2जी,कोयला,स्पेक्ट्रम से लेकर चारा पोसन आहार अनगिनत शासकीय घोटाला में देश का सबसे बड़ा और अखरी माहाघोटला सूरजागढ़ लोह प्रकल्प में हो रहा हैं। इससे बड़ा घोटाला ना कभी हुई हैं। और ना कभी होगा। जिला के स्थाई निवासी गरीब ईमानदार भोले भाले आदिवासी परिवारों के नजरो के सामने रोज हजारों ट्रक में ओवरलोड भरकर लाखो टन कच्चा माल देश विदेश भेजा जा रहा हैं। शासन के दिशाभूल कर नाम मात्र रायल्टी के आधार पर शासन को गुमराह कर करोड़ो का ठगी किया जा रहा हैं।

स्थाई आम जनता के जानमाल से लेकर आनेवाले पीढ़ी को गंभीर बीमारी का सौगात भि लोहप्रकल्प स्थान से धूल मिट्टी के साथ बीमारी फ्री कें जुमले के साथ दिया जा रहा हैं। जिस सड़क पर 25 से 30 टन भार समता वाली वाहन ओवरलोड लेकर चल नही सकती थी। उस सड़क पर45 से 85 टन भार लेकर बड़े बड़े वाहन सड़क की दशा और दिशा साथ में नक्सा तक बदल दी। अब आए दिन स्थानीय आम नागरिक सड़क दुर्घटना का शिकार हो कर मौत को गले लगा रहे हैं। साथ में परिवार को भूख गरीबी बीमारी और गुलामी की चौखट पर जाने को मजबूर होना पड़ रहा हैं। सरकार पहले कहती थीं।जिला को उन्नति में नक्सल प्रभावित कर रहे हैं।और सरकार अब वही नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में बिना रोक टोक के खनिज उत्खनन कर देश के साथ साथ स्थानीय को गुलाम बीमार बेरोजगार करने में जुमला बाजी फ्री का झुनझुना थमाई देती देखा जा रहा हैं।

कब तक सरकार से लेकर स्थानीय जन प्रतिनिधि और शासन के अधिकारी स्थानीय आम जनता को ठगने की खेल खेलती रहेगी? जिला में ही फैक्ट्री खोलकर बेरोजगार को रोजगार देने की लुभावनी मीठी जुमला बाजी दिखाकर जिला वासियों को बहुत लुभाया । अब स्थानीय को ठगा कर स्थानीय के साथ साथ देश को बर्बाद करने की पूरी जुमले बाजी कर ली। सुना हैं देश के ग्रह मंत्री अमित शाह जी के पुत्र त्रिवेणी कंपनी सूरजागढ़ उत्खनन में भागीदारी हैं। ठीक हैं भागीदारी हैं।परंतु स्थानीय के लिए क्या सुविधा उपलब्ध कराई। क्या सड़क पर आए दिन दुर्घटना होती देखकर स्थानीय अपने भाई कोई बेटा कोई पिता को खोएगा। क्या जनभूजकर सरकार स्थानीय को बीमारी और दुर्घटना में मरने के लिए कोरोणा किं तरह कोई प्रीपिलान धोखा करने का काम किया जा रहा हैं? या सोची समझी बहुत बड़ा जुमले बाजी हैं। चपरला अभियरण होने के कारण उस क्षेत्र के सड़क को बड़ा करने या चौड़ी कारण करने की इजाजत शासन नहीं देती। लेकिन भाड़ वहां ओवरलोड के साथ रोज हजारों ट्रक जाने की इजाजत दे दी गई। ना आरटीओ की जांच ना स्थानीय प्रशासन की जांच बेखौफ ओवरलोड ट्रकोंकी वाहजाहि क्या अब अभियारन में जानवरो को कोई खतरा नहीं? पेड़ पौधों को कोई नुकसान नाही?

केवल एक बड़े नेता के पुत्र त्रिवेणी कंपनी के भागीदार हैं इस कारण कानून को नियम बदल दिए गए। वरना आजतक देश के हर एक राज्य जिला में सड़क बनाकर वहा के स्थानीय को तरक्की के रास्ते दिया गया। लेकिन गद्चिरोली जिला के एक भिं सडक बहुत पहले ना अब बनाई गई। केवल स्थानीय को बेकूफ बना कर नक्सल ग्रस्त जिला बताकर केंद्र सरकार से अरबों रुपए खर्च के नाम पर नेताओ अधिकारियो के द्वारा ठग बाजी किया गया। परंतु जिला के जनता को अब समझ आ रही हैं केवल स्थानीय को जुमले बाजी कर ठगां गया। अब जनता जाग गई हैं।जुमले बाजी सरकार को जिला से उखाड़ फेंकना हैं। यही हवा जिले के चारो ओर चल रहीं हैं। कबतक जनता सरकार के गुलाम बनकर ठगती रहेगी। जनता न्याय और अपना हक चाहती हैं। सरकार को अब जुमले बाजी छोड़कर जनता हिट में काम करना होगा वरना वो दिन दूर नही जब वोट मांगने आनेवाले जनप्रतिनिधि भिक मांगने पर भी जनता उन्हें वोट नही देगी। जनता कंपनी से मांग कर रही हैं।कंपनी में जितनी भी बाहरी राज्य के कर्मचारी होंगे ।उतना ही स्थानीय को अब आगे घर बैठे वेतन लागू करना होगा। आगे अब स्थानीय को ठग नही सकते।ठगी और फ्री के जुमले बाजी अब नही चलेगी।

गड़चिरोली से ज्ञानेंद्र विश्वास

Spread the love
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments

Ankur Upadhayay on Are you Over Sensitive?
Pooja Solanki on Idea and Concept of Change
Spread the love