Tuesday, June 15, 2021
spot_img
Home Blog

भारतीय कला में भू-देवी का चित्रण विषय पर होगा ऑनलाइन व्याख्यान,

0

इंदौर / आज़ादी का अमृत महोत्सव के अवसर पर पुरातत्व, अभिलेखागार एवं संग्रहालय निदेशालय द्वारा ऑनलाइन व्याख्यान श्रृंखला का आयोजन किया जायेगा। इस श्रृंखला के 12वें व्याख्यान में डॉ. मैनुअल जोसेफ, भारतीय कला में भू-देवी का चित्रण विषय पर 15 जून, 2021 को दोपहर 3:30 बजे से शाम 5 बजे तक व्याख्यान देंगे। इच्छुक व्यक्ति  https://bharatvc.nic.in/join/2255585761 लिंक और पासवर्ड 915468 से ऑनलाइन व्याख्यान में जुड़ सकते हैं।

डॉ. जोसेफ, एक प्रसिद्ध पुरातत्वविद् हैं। पिछले 30 वर्ष से मध्यप्रदेश के विभिन्न ऐतिहासिक पहलुओं पर काम कर रहे हैं। इन्होंने राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय महत्व की पत्रिकाओं में 130 से अधिक शोध-पत्र लिखे हैं, जिनमें अधिकतर मध्यप्रदेश के पुरातत्व पर केन्द्रित हैं। डॉ. जोसेफ ने पुरातत्व संस्थान दिल्ली, राष्ट्रीय संग्रहालय दिल्ली, राज्य संग्रहालय भोपाल, इलाहाबाद संग्रहालय, स्कूल ऑफ प्लानिंग एंड आर्किटेक्चर भोपाल आदि में अनेकों बार व्याख्यान दिए हैं। डॉ. जोसेफ भारतीय पुरातत्व सोसायटी, आईएसपीक्यूएस, रॉक आर्ट सोसाइटी ऑफ इंडिया, दक्षिण एशियाई पुरातत्व, मध्यप्रदेश इतिहास परिषद आदि के सक्रिय सदस्य भी हैं।

जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ जे के दुर्ग जिला में किया जांच दल गठित,

0

ज़िले में युरिया,सुपर फ़ॉस्फ़ेट, DAP, पोटाश,गिपसम, जिंकटेड पाउडर की उपलब्धता का गोदामों में जाकर भौति स्थल निरीक्षण करने सहिंत

खाद्य पदार्थों की कमी और कालाबाज़ारी की विस्तृत जानकारी लेकर जिला कलेक्टर को राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपने।

भिलाई – जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ जे के दुर्ग ग्रामीण जिलाध्यक्ष सतीश पारख ने कहा की ख़रीफ़ फसल-चक्र में बोवाई शुरू होने जा रही है लेकिन खुद को किसानों की हितैषी बोलने वाली कांग्रेस सरकार ने ख़रीफ़ चक्र के
लिए तैयारी में काफी पिछे है।सरकार के सभी गोदाम कृषि पदार्थ की जगह शराब से भरे पड़े है और किसानों को मजबूरन डी ए पी, यूरिया, फ़ॉस्फ़ेट जैसे कृषि पदार्थ काला बाजारियों से चौगुने दाम में ख़रीदना पड़ रहा है।यही हाल लगभग छत्तीसगढ़ के सभी ज़िलों का है। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) माँग करती है कि राज्य सरकार तत्काल डी ए पी और अन्य कृषि पदार्थों की आपूर्ति सुनिश्चित करें।ताकि कृषि कार्य पिछड़े ना।
सतीश पारख ने कहा की इस समस्या के निराकरण हेतु जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के प्रदेशाध्यक्ष माननीय श्री अमित जोगी जी के निर्देश पर जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) सात-दिवसीय प्रदेशव्यापी आंदोलन करेगी ।जिस हेतु दुर्ग जिले में जाँच दल का भी गठन किया गया है । जाँच-दल के सदस्यों के द्वारा ज़िले में युरिया, सुपर फ़ॉस्फ़ेट, DAP, पोटाश, गिपसम, जिंकटेड पाउडर की उपलब्धता का गोदामों में जाकर भौतिक स्थल निरीक्षण करेंगे, और उनकी कमी और कालाबाज़ारी की विस्तृत जानकारी जिला कलेक्टर को राज्यपाल के नाम सौंपेगे।जिला अध्यक्ष दुर्ग ग्रामीण सतीश पारख ने
आज जांच दल की घोषणा की जो अपने अपने छेत्र के गोदामों व सोसायटियों में जाकर जानकारी एकत्रित करेंगे।
जाँच दल में
सतीश पारख उतई, शितकरण महलवार पाटन ,
सौरभ कामड़े मर्रा पाटन,
डाकेश्वर साहू बटरेल पाटन,
धर्मेन्द्र बंजारे डुमरडीह दुर्ग ग्रामीण ,सुनील छत्री कातरो,
युवराज ध्रुवे नेवई दुर्ग ग्रामीण,
लोचन साहू जोरातराई दुर्ग ग्रामीण,
संजय देशमुख खुरसुल दुर्ग, ग्रामीण रिहान खान उतई दुर्ग ग्रामीण,
कुलेश्वर देशमुख खुरसुल दुर्ग ग्रामीण,
ऋषि टण्डन अहिवारा,
सीताराम यादव मचांदुर,
कुंजेश चंद्राकर रिवागहन,
दयाराम साहू धनोरा,
विजय चन्द्राकर उतई,
एन एम यादव रिसाली,
रोहित बंजारे सिपकोनहा को शामिल किया गया है।

मनोज साहू /डेली-खबर पाटन (छ.ग.)

आओ सीखें कार्यक्रम छोटे बच्चों में विकसित करेगा शैक्षणिक समझ,

0

”हमारा घर-हमारा विद्यालय-प्रयास” अभ्यास पुस्तिका 15 जुलाई से पहले होगी वितरित,

इंदौर / छोटे बच्चों में भावनात्मक विकास और शैक्षणिक समझ विकसित करने के लिए स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा ”आओ सीखें” कार्यक्रम में 15 जून से 15 जुलाई 2021 तक व्हाट्सएप ग्रुप के माध्यम से विभिन्न छोटे ऑडियो और वीडियो भेजे जाएँगे।संचालक, राज्य शिक्षा केन्द्र श्री धनराजू एस ने बताया कि इसके साथ ही ”हमारा घर-हमारा विद्यालय” के अंतर्गत बच्चों में विषय की प्रारंभिक समझ को विकसित करने की दृष्टि से ”प्रयास” अभ्यास पुस्तिका का वितरण भी 15 जुलाई से पहले किया जाएगा। अभ्यास पुस्तिका के मुद्रण और 15 जुलाई के पहले सामग्री बच्चों को उपलब्ध कराने के संबंध में सभी जिला परियोजना समन्वयकों को निर्देश दिए गए हैं।

श्री धनराजू ने बताया कि 16 जुलाई से 15 अगस्त तक विद्यार्थियों के लिए ”हमारा घर-हमारा विद्यालय प्रयास” अभ्यास पुस्तिका सामग्री जिलों को मेल पर प्रेषित की जा रही है। इस 48 पेज की सामग्री को जिले स्तर पर कक्षा 1 व 2 और कक्षा 3 से 5 के लिए बहुरंगी तथा कक्षा 6 से 8 के लिए ब्लैक एंड व्हाइट प्रिंट में मुद्रित कराकर बच्चों को उनके घर पर कार्य करने के लिए 15 जुलाई के पूर्व उपलब्ध करानी होगी।

श्री धनराजू ने बताया कि वर्तमान में कोविड-19 के कारण विगत सत्र माह मार्च 2020 से शालाएँ पूर्णतः बन्द हैं। सत्र 2021-22 में जब तक परिस्थितियों सामान्य नहीं हो जाती हैं, बच्चों के शैक्षणिक उन्नयन के लिए राज्य शिक्षा केन्द्र ने विभिन्न चरणों में कार्य करने की योजना तैयार की है। इसके अलावा शिक्षकों अथवा वॉलेंटियर के सहयोग से बच्चों से घर पर रहते हुए कुछ अन्य गतिविधियाँ भी कराई जा सकती हैं। पालक, अभिभावक और बच्चे इन गतिविधियों के फोटो और वीडियो बनाकर अपने शिक्षकों को प्रेषित कर सकते हैं। विभिन्न कक्षाओं की गतिविधियों को जानने के लिए क्लिक करें।

शिक्षा का अधिकार अधिनियम आवेदन की प्रक्रिया ऑनलाइन जारी,

0

इंदौर जिले में एक हजार 686 स्कूलों में 12 हजार 841 बच्चों को मिलेगा नि:शुल्क प्रवेश,

इंदौर / इंदौर जिले में शिक्षा के अधिकार अधिनियम का प्रभावी क्रियान्वयन सुनिश्चित किया जा रहा है। इस अधिनियम के अंतर्गत चयनित जाति तथा वर्गों के बच्चों को प्रायवेट स्कूलों में नि:शुल्क प्रवेश दिलाने का प्रावधान है। जिले में इस वर्ष एक हजार 686 स्कूलों में 12 हजार 841 बच्चों को नि:शल्क प्रवेश दिलाया जायेगा। प्रायवेट स्कूलों की प्रथम कक्षा में निःशुल्क प्रवेश के लिये ऑनलाइन आवेदन 10 जून 2021 शुरू हो गये है। ऑनलाइन आवेदन की अंतिम तिथि 30 जून 2021 है। इस संबंध में आर.टी.ई पोर्टल www.educationportal.mp-gov.in/Rte पोर्टल पर ऑनलाइन आवेदन-पत्र का प्रारूप उपलब्ध कराया गया है।

सर्व शिक्षा अभियान के जिला परियोजना समन्वयक श्री अक्षय सिंह राठौर ने बताया कि ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया जारी है। जिन लोगों ने पोर्टल पर ऑनलाइन आवेदन किया है, उन्हें संबंधित जन शिक्षा केन्द्र में पहुंचकर आवेदन के साथ संलग्न दस्तावेजों का सत्यापन करवाना होगा। उन्होंने बताया कि पात्रतानुसार निजी विद्यालय में निःशुल्क प्रवेश के लिए आवेदकों का चयन, ऑनलाइन लॉटरी के माध्यम से 6 जुलाई 2021 को किया जायेगा। इस वर्ष की निःशुल्क प्रवेश प्रक्रिया में कोविड-19 से माता-पिता या अभिभावक की मृत्यु के कारण अनाथ हुए बच्चों को ऑनलाइन लॉटरी में प्राथमिकता दी जायेगी।

फार्म के साथ पात्रता संबंधित कोई भी एक दस्तावेज अपलोड किया जाना होगा। ऑनलाइन आवेदन के बाद आवेदकों को इसी अवधि में दस्तावेजों का सत्यापन संबंधित अधिकृत सत्यापनकर्ता अधिकारी से करवाना होगा। आवेदक ने आर.टी.ई. में निःशुल्क प्रवेश के लिये जिस केटेगरी या निवास क्षेत्र के माध्यम से प्रवेश चाहा है, उस केटेगरी और निवास प्रमाण का सत्यापन, संबंधित मूल प्रमाण-पत्र से किया जायेगा। लाटरी के पूर्व ही दस्तावेज सत्यापन हो जाने से आवेदकों को स्कूल आवंटित होने के बाद दस्तावेजों की त्रुटि या अभाव में, एडमिशन निरस्त होने की समस्या उत्पन्न नहीं होगी। 

ऑनलाइन आवेदन करने में कोई समस्या या कठिनाई होने की स्थिति में संबधित विकासखंड के बीआरसी कार्यालय में संपर्क किया जा सकता है। एन.आई.सी. द्वारा 6 जुलाई 2021 को पारदर्शी तरीके से ऑनलाइन लॉटरी के माध्यम से छात्रों को निजी स्कूलों में सीट का आवंटन किया जायेगा। लॉटरी प्रक्रिया के बाद आवंटित सीट की जानकारी आवेदक को उसके पंजीकृत मोबाइल नंबर पर एसएमएस के माध्यम से दी जायेगी। ऑनलाइन लॉटरी की सूची आर.टी.ई. पोर्टल पर भी उपलब्ध रहेगी। साथ ही स्कूल आवंटन की जानकारी बीआरसीसी कार्यालय के सूचना पटल पर भी दर्शित की जायेगी।

नर्सरी, के.जी.-1 और के.जी-2 कक्षाओं में प्रवेश के लिये न्यूनतम आयु 3 से 5 वर्ष और कक्षा-1 मे प्रवेश के लिये न्यूनतम आयु 5 वर्ष से अधिकतम 7 वर्ष तक निर्धारित की गयी है। आयु के संबंध में मूल प्रति से मिलान न करने की स्थिति में अथवा मूल प्रति प्रस्तुत न करने की स्थिति में आवेदक को अपात्र माना जायेगा। सत्र 2021-22 में प्रवेश के लिये आवेदक की आयु की गणना 16 जून 2021 की स्थिति में की जायेगी। आवेदक द्वारा जन्म प्रमाण-पत्र में अंकित तिथि ही ऑनलाइन आवेदन में दर्ज की जाये।

कोविड-19 के कारण शिक्षा का अधिकार अधिनियम के प्रावधान के तहत सत्र 2020-21 के प्रवेश नही हो पाये थे, परन्तु आरटीई प्रावधान के तहत जो बच्चे आयु अनुरूप सत्र 2020-21 के लिये पात्र थे, उन पात्र बच्चों को इस योजना का लाभ हो सके, इसे ध्यान में रखते हुए जिन आवेदकों द्वारा सत्र 2020-21 के लिये आवेदन किये जायेंगे, उनकी आयु की गणना 16 जून 2020 की स्थिति से की जायेगी। सत्र 2020-21 के लिए आवेदन करने की स्थिति में आवेदक/अभिभावक के लिये यह स्पष्ट किया गया है कि उक्त सत्र में बच्चे को आवंटित कक्षा नोशनल होगी। यानी प्रवेशित बच्चा, वास्तविक रूप से प्रवेश की अगली कक्षा में पढ़ेगा।

इंदौर जिले में खरीफ मौसम में बुवाई के लिये व्यापक तैयारियां,

0

तीन से चार इंच बारिश होने पर ही बोनी करने के लिये किसानों को दी गई सलाह,

इंदौर / इंदौर जिले में खरीफ मौसम में बुवाई के लिये व्यापक तैयारियां की गई है। किसानों द्वारा खेतों को बोनी के लिये तैयार कर लिया गया है। कृषि विभाग ने भी किसानों को उनकी मांग अनुसार समय पर खाद, बीज सहित अन्य कृषि आदान उपलब्ध कराने की पुख्ता व्यवस्था की है। किसानों को खाद और बीज का वितरण किया जा  रहा है। किसानों को सलाह दी गई है कि वे तीन से चार इंच बारिश होने पर ही खरीफ फसलों की बोनी करें।उप संचालक कृषि श्री शिव सिंह राजपूत ने बताया कि खरीफ फसलों की बुआई हेतु किसानों को सलाह दी गयी है कि जिले में तीन या चार इंच वर्षा होने के उपरांत ही फसलों की बुआई की जाये।

बोनी हेतु कृषक स्वयं का भी बीज उपयोग में ले सकते है। इस हेतु घर में उपलब्ध सोयाबीन को स्पायरल सीड ग्रेडर से ग्रेडिंग कर अच्छे बीज का चयन कर ले। इसके पश्चात् अंकुरण परीक्षण करके देख लेवें कि न्यूनतम 70 प्रतिशत से अधिक है या नहीं। अंकुरण 70 प्रतिशत से अधिक हो तो यह बीज उत्तम होगा। 75 किलो प्रति हैक्टर की दर से बोनी की जाये । अंकुरण प्रतिशत 70 प्रतिशत से कम है तो बीज की मात्रा बढाकर बोनी की जा सकती है। बोनी के पूर्व सोयाबीन बीज को थायरम 2 ग्राम एवं कार्बेन्डाजिम एक ग्राम प्रति किलो ग्राम की दर से बीज उपचारित कर बोयें। उपचारित बीज को छाया में सुखाने के पश्चात् कल्चर तथा पी.एस.बी. कल्चर दोनो 5 ग्राम प्रति किलो ग्राम प्रति की दर से अच्छी तरह मिलाकर तुरन्त बोनी करना चाहिए।

इंदौर जिले में कृषि विभाग द्वारा किसानों को सलाह दी गयी है कि वे खरीफ के दौरान अंतर्वर्तीय फसलों की बुआई करें। सोयाबीन फसल के साथ अन्य फसलों की अंतरवर्तीय फसल लेने से अकेली सोयाबीन फसल लेने की तुलना में अधिक लाभप्रद है। सिंचित क्षेत्रों में सोयाबीन के साथ मक्का, ज्वार आदि की अंतरवर्तीय फसल लेने से अधिक लाभप्रद है। इसके लिए सोयाबीन फसल के साथ 4:2 या 2:2 के अनुपात में अन्य फसल की लाईने ली जा सकती है। खेती से संबंधित समस्याओं के निराकरण के लिए क्षेत्रीय ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी एवं वरिष्ट कृषि विकास अधिकारी से सम्पर्क किया जा सकता है।

जिंतूर येथे श्री संचारेश्वर विद्यालयात नवागतांचे स्वागत सोहळा संपन्न,

0

जिंतूर/दिनांक १५ जून २०२१ रोजी श्री संचारेश्वर विद्यालयात शैक्षणिक वर्ष २०२१-२२ ची सुरूवात ॲानलाईन गुगल मीट च्या माध्यमातून व प्रातिनिधीक स्वरूपात ५ विद्यार्थ्यांचे पुष्पगुच्छ व नविन पुस्तके देऊन स्वागत करण्यात आले.कार्यक्रमाचे अध्यक्ष मा. रविकुमार पेशकार (कार्यवाह स्थानिक समन्वय समिती) प्रमुख पाहुणे म्हणून ॲानलाईन गुगल मीट द्वारा जिॅतूर चे गटशिक्षणाधिकारी मा. सुभाषजी आमले साहेब तसेच शाळेत प्रत्यक्ष उपस्थिती श्री वसंतराव पुराणिक (शालेय समिती अध्यक्ष) मुख्याध्यापक श्री प्रकाश जोशी उपस्थित होते.

कार्यक्रमाचे सुत्रसंचालन सौ विजयमाला फड यांनी केले तर प्रास्ताविक शिवाजी सोमोसे यांनी केले. आभार प्रदर्शन श्रीमती उषा खराबे यांनी केले.जिंतूर चे गटशिक्षणाधिकारी मा.सुभाषजी आमले साहेब यांनी शाळेतील नवागतांचे ॲानलाईन स्वागत सोहळा या कार्यक्रमास गुगल मीटद्वारा शुभेच्छा दिल्या. तसेच “ॲानलाईन शिक्षण पध्दतीमध्ये नवनविन उपक्रम शाळा राबवते व संस्कारक्षम भावी नागरिक (विद्यार्थी ) घडवते.पुढेही असेच उपक्रम राबवावेत”.असे ते म्हणाले.या कार्यक्रमाच्या यशस्वीतेसाठी शिवाजी सोमोसे,किरण नाईक,बाळासाहेब ठोंबरे,संजय गायकवाड,उषा खराबे,विजयमाला फड,रूपाली सोनसळे या सर्व शिक्षकवृंदानी प्रयत्न केले.

प्रतिनिधी- सचिन रायपत्रीवार

रायपुर माना कैम्प के विकास कार्यों हेतु सहर्ष मंजूरी-जयसिंह अग्रवाल,

0

रायपुर / माना कैम्प रायपुर में निवासरत विस्थापित परिवारों के स्थायी बसाहट व क्षेत्र में बुनियादी सुविधाओं का विकास किए जाने के संबंध में रायपुर ग्रामीण विधायक सत्यनारायण शर्मा द्वारा प्रस्तुत की गई मांगों पर शासन द्वारा प्रदान की गई मंजूरी की घोषणा करते हुए राजस्व एवं आपदा प्रबंधन मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने कहा कि गुमटी निर्माण और बैरक मरम्मत कार्यों व पुनरीक्षित निविदा प्राक्कलन अनुसार पूर्व में किए गए कार्यों के देयकों का भुगतान करने के लिए 92.30 लाख रूपये की स्वीकृति राजस्व विभाग द्वारा प्रदान की गई है।स्वीकृत राशि से लगभग 7 लाख 58 हजार प्रति गुमटी की दर से 12 गुमटियों का निर्माण कार्य और 67 हजार रूपयों की अनुमानित लागत से दो बैरकों के मरम्मत कार्य कराए जाएंगे। राजस्व मंत्री ने संबंधित विभागों के अधिकारियों को उपर्युक्त कार्यों को तत्काल पूर्ण कराए जाने का निर्देश दिया। मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने उम्मीद जताई है कि उपर्युक्त कार्यों के पूर्ण हो जाने से विस्थापित परिवारों को स्थायी निवास मिल सकेगा।

रायपुर माना कैम्प में आयोजित कार्यक्रम में प्रदेश के राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने उपर्युक्त उद्गार व्यक्त करते हुए कहा कि माना कैम्प में जन सुविधाओं के विकास तथा नालियों एवं टाॅयलेट आदि निर्माण कार्यों के लिए 1 करोड़ रूपये की राजस्व मंत्री द्वारा सहर्ष घोषणा की गई। इसके साथ ही राजस्व मंत्री ने स्थानीय निवासियों और जन प्रतिनिधियों को भरोसा दिलाया कि उनके क्षेत्र से संबंधित सार्वजनिक समस्याओं के निराकरण की दिशा में शासन द्वारा ठोस कदम उठाए जाएंगे। जयसिंह अग्रवाल ने आगे कहा कि प्रदेश के मुखिया भूपेश बघेल के नेतृत्व में कांग्रेस की सरकार समाज के हर वर्ग की जरूरतों को ध्यान में रखकर राज्य का चहुंमुखी विकास करने की दिशा में तेेजी से आगे बढ़ रही है। उन्होंने अपनी बात जारी रखते हुए आगे कहा कि मुख्यमंत्री बघेल का स्पष्ट निर्देश है कि आदिवासी, दलित, पिछड़ा, गरीब, मजदूर व बेसहारा वर्ग के साथ ही किसानों का पूरा ख्याल रखा जाए। उन्होंने आगे कहा कि इस बात की प्रसन्नता है कि प्रदेश के मुखिया के निर्देशों को अमल में लाते हुए सरकार द्वारा अनेक योजनाएं संचालित की गई हैं जिनका लाभ लक्षित वर्ग के साथ ही प्रदेश को मिल रहा है।

रायपुर ग्रामीण विधायक सत्य नारायण शर्मा के संबंध में बोलते हुए राजस्व मंत्री ने कहा कि वे बहुत ही वरिष्ठ और कर्मठ कांग्रेस नेता हैं और हर किसी के सुख-दुःख में बराबर के भागीदार रहते हैं। जयसिंह अग्रवाल ने आगे कहा कि रायपुर ग्रामीण विधायक की यह भी मांग है कि यह ग्राम राजस्व ग्राम के रूप में अभी तक घोषित नहीं है। राजस्व मंत्री ने आगे बताया कि इस ग्राम को राजस्व ग्राम घोषित किए जाने संबंधी आवश्यक प्रक्रिया पूर्ण करने के लिए राजस्व सचिव को निर्देशित किया जा चुका है। माना कैम्प में निर्माणाधीन मंदिर कार्य को एक पुनीत कार्य बताते हुए राजस्व मंत्री ने व्यक्तिगत तौर पर 51 हजार रूपये राशि के सहयोग की घोषणा की।इस अवसर पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व रायपुर ग्रामीण विधायक सत्यनारायण शर्मा, प्रदेश कांग्रेस महामन्त्री पंकज शर्मा, अमित घोष विधायक प्रतिनिधि, गोपाल पाॅल, समीर पाॅल, सुब्रत डे ,महामंत्री युवक कांग्रेस बी.सन्तोष सहित बड़ी संख्या में जन प्रतिनिधिगण और स्थानीय निवासी उपस्थित रहेे।

मनोज साहू /डेली-खबर पाटन (छ.ग.)

इंदौर जिले में भी आज से समर्थन मूल्य पर खरीदा जायेगा मूँग,

0

इंदौर / इंदौर जिले में राज्य शासन के निर्देशानुसार आज 15 जून से समर्थन मूल्य पर मूँग की खरीदी होगी। जिले में मूँग की खरीदी समर्थन मूल्य 7 हजार 196 रूपये प्रति क्विंटल की दर से होगी। जिले में चार खरीदी केन्द्र बनाये गये है।उप संचालक कृषि श्री शिवसिंह राजपूत ने बताया कि ग्रीष्मकालीन मूँग फसल को प्रोत्साहन देने के लिए शासन द्वारा इस वर्ष इन्दौर जिले को भी ई-उपार्जन हेतु चयनित किया गया है। जिसमें इन्दौर विकासखण्ड में सहकारी विपणन संस्था मर्या. लक्ष्मीबाई नगर इन्दौर मण्डी केन्द्र क्र.एक, महू विकासखण्ड में प्राथमिक कृषि साख सहकारी समिति महूगांव केन्द्र क्रं. एक कृषि उपज मण्डी समिति महू, सांवेर विकासखण्ड में सहकारी विपणन संस्था मर्यादित सांवेर एवं देपालपुर विकासखण्ड में सहकारी विपणन संस्था मर्यादित देपालपुर केन्द्र इस प्रकार जिले में 04 पंजीयन केन्द्र खोले गये है। केन्द्रों पर पंजीयन कार्य चल रहा है । मूँग उत्पादक समस्त कृषकों से अपील की गई है कि वे अपने विकासखण्ड में स्थित पंजीयन केन्द्र पर जाकर अपना पंजीयन अवश्य करायें। जिले में आज 15 जून 2021 से समर्थन मूल्य 7 हजार 196 रूपये प्रति क्विंटल की दर से मूँग की खरीदी प्रारम्भ हो रही है।

संभागायुक्त डॉ.शर्मा ने कोविड-19 से दिवंगत हुए व्यक्तियों को अर्पित की श्रद्धांजलि,

0

इंदौर / संभागायुक्त डॉ. पवन कुमार शर्मा ने सोमवार को कमिश्नर कार्यालय के सभाकक्ष में कोरोना महामारी से दिवंगत हुए व्यक्तियों की आत्मा की शांति के लिए 2 मिनट का मौन धारण किया। इस दौरान संयुक्त आयुक्त श्रीमती सपना शिवाले सहित कार्यालय के समस्त अधिकारी एवं कर्मचारियों ने भी 2 मिनट का मौन धारण कर दिवंगत आत्माओं को श्रद्धांजलि अर्पित की।

विभिन्न स्थलों में सोडियम हाइपोक्लोराइड के घोल से सैनेटाईजेशन का कार्य अनवरत जारी,

0

कटनी /  कोरोना संक्रमण के प्रसार पर पूर्ण रूप से लगाम लगानें के उद्धेश्य से जिला कलेक्टर एवं नगरनिगम प्रशासक श्री प्रियंक मिश्रा एवं निगमायुक्त श्री सत्येन्द्र सिंह धाकरे के निर्देशों के परिपालन में निगम प्रशासन द्वारा कोरोना विनाशक रथों के माध्यम से नगर के विभिन्न स्थलों में रोजाना सोडियम हाइपोक्लोराइड के घोल का छिडकाव कराया जा रहा है।सैनेटाईजेशन प्रभारी अभिषेक बघेल एवं पंकज निगम ने जानकारी देते हुए बताया कि आज प्रातः कोरोना विनाशक रथों के माध्यम से नगर के विभिन्न स्थलों  गांधी द्वार से जिला अस्पताल मुख्य मार्ग के दौनों ओर, बजरंग काॅलोनी तथा जैन काॅलोनी के विभिन्न रहवासी क्षेत्रों, तिलक काॅलेज मार्ग एवं उपस्वास्थ्य केन्द्र परिसर, दुर्गा चैक खिरहनी आंगनबाडी परिसर, वेक्सीनेशन परिसर पुरानी कचहरी, सिविल लाईन सूरी गली, सहित नेहरू वार्ड की विभिन्न गलियों में सोडियम हाईपोक्लोराईड के घोल से छिडकाव किया जाकर स्थलों को विसंक्रमित करनें की कार्यवाही की गई।