छत्तीसगढ़ बोर्ड रिजल्ट 2023 में सब्जी विक्रेता बच्चे टॉप बोर्ड एन

[ad_1]

छत्तीसगढ़ बोर्ड परिणाम: छत्तीसगढ़ में बोर्ड परीक्षाओं के रिजल्ट जारी हो गए हैं। टॉपर लिस्ट में ज्यादातर नाम लड़कियों का ही है। इस साल भी छत्तीसगढ़ में लड़कियों ने बोर्ड परीक्षा में जीत मार ली है। एबीपी न्यूज ने कई टॉपर बच्चों से बातचीत की है। उन्होंने अपनी सफलता के पीछे कितना मेहनत किया है और अच्छे नंबर आने के लिए अपनी तैयारी की इन सभी नामांकन के बारे में बताया है।

रायपुर की सिल्क खत्री की कहानी आप सभी के लिए बहुत खास हो सकती है। क्योंकि सिल्क ने घर की स्थिति सुधारने के लिए शिक्षा को हथियार बनाया है। सिल्क ने 12वीं बोर्ड परीक्षा में चौथा स्थान हासिल किया है। सिल्क रायपुर जिले में रहता है। सिल्क ने बताया कि मेरा पिता वनस्पतिक बिक्री करता है। घर में बड़ी बहन के साथ रेशम पहली से 12वीं तक के बच्चों को पढ़ती है। सिल्क खत्री की कहानी इस लिए दिलचस्प हो जाती है क्योंकि सिल्क जिस क्लास में पढ़ती थी उसी क्लास के बच्चों को नई पढ़ना थी।

रोज हाउस में रिवाइज करने से बदहजमी कम होती है
सिल्क खत्री ने एबीपी से खास बातचीत में कहा उम्मीद नहीं थी। मैं इस परिणाम देख कर बहुत खुश हूं। मैंने कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि टॉप में आऊंगी। मैंने सिर्फ स्कूल में पढ़ाया था उसी की खबर में रिवाइज करती थी। अगर आप रोज की पढ़ाई रोज घर में रिवाइज करते हैं तो आपका ऊपर का प्रेशर नहीं आएगा। रिजल्ट के एक दिन पहले बहुत ज्यादा दहशत का माहौल था। मैं रात को सोई भी नहीं थी। रिजल्ट देखने से पहले बहुत जल्दी हुई थी। हम दोनों बहनें पहली से 12वीं तक के बच्चों को पढ़ती थीं। इससे पहले 10वीं में 10वीं के बच्चे पढ़ रहे थे।

माता पिता ने कहा अभी भी हमें सपना लग रहा है
सिल्क खत्री ने आगे कहा कि हेलीकॉप्टर की सवारी से बहुत डर लगता है, लेकिन में निश्चित रूप से हेलीकॉप्टर की सवारी करूंगी। रेशम के पिता मनोज खत्री ने बताया कि उनके पास सब्जी की होलसेल दुकान है। बहुत खुशी की बात है कि हमारी बच्ची ने टॉप किया है। बेटी को और आगे पढ़ना चाहते हैं। पिता के साथ मां नैना खत्री बेटी की सफलता से बहुत खुश हैं। मां ने कहा कि अभी हमें सपने में ऐसा लग रहा है। मैंने कभी नहीं सोचा था कि बेटी इतनी ज्यादा खुश होगी। सिल्क ख़ारिज के समय में बहुत तनाव में रहता है। खाते में ज्यादा ध्यान नहीं देता। जिस संघर्ष से हम लोग अधिकारे है ऐसा संघर्ष लोगों को न मिले।

हेलीकॉप्टर की सैर के लिए 10वीं में टॉप
इसके साथ ही रायपुर के ही ऋषभ देवांगन ने 10वीं बोर्ड परीक्षा में मेरिट लिस्ट में अपनी जगह बना ली है। ऋषभ ने कहा कि मैंने शोध किया है। पिछले साल से ही हमारे ग्रुप के बच्चों ने टॉप करके हेलीकॉप्टर की सैर की थी। पढ़ाई के दौरान घर परिवार और शिक्षकों का फूल सहयोग मिला। खासकर हम लोग ग्रुप पढ़ते थे। मैंने नहीं सोचा था कि मैं मेरिट लिस्ट में आऊंगा। ऋषभ ने कहा कि टॉप करने के लिए मेहनत जरूरी है। किस्मत तो सभी का होता है। मेहनत से किस्मत को बदल देता है। पिता किराना दुकान चलाता है।

टॉपर ने कहा मेहनत किस्मत को बदल देता है
ऋषभ ने आगे कहा कि मैं इंजीनियर बनना चाहता हूं। मेरे प्रेरणा स्रोत देश के पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम है। हमेशा वो बच्चों के साथ घुल मिल कर रहते हैं। रायपुर के सरकार स्वामी आत्मानंद हिंदी माध्यम स्कूल में पढ़ाई हुई है। सोशल मीडिया से अपनी दूरी बनाए रखता हूं। खेल नहीं खेलता हूं। अच्छे नंबर आने के लिए मेहनत करते रहना है। हमेशा मोटा रहना चाहिए। बढ़ते समय के लिए हमें आज का लक्ष्य बना लेना चाहिए। सभी विषयों को समान समय दिया था।

पापा की अलमारी बना देती है बेटी ने 12वीं में टॉप
इसके अलावा 12वीं बोर्ड की टॉपर न्यासा देवांगन के पिता की अलमारी बनाने का काम करती हैं। न्यासा आईएएस बनना चाहता है। न्यासा ने एबीपी न्यूज से कहा कि मैं भी हेलीकॉप्टर की सवारी कर रहा हूं। मैंने कभी हवाई सफर नहीं किया लेकिन एक बार हेलीकॉप्टर में बैठ गया तो ये मेरा सपना है। पिछले साल की मेरिट के बच्चों ने हेलीकॉप्टर की सवारी की थी तब से ही मेरा मन था। दिन में 12 घंटे तक पढ़ाई करती थी। जो भी स्कूल और कोचिंग में पढ़ाया जाता है, उसे घर आकर रिवीजन करना चाहिए। जो भी ज़रूरी है उसे लिखो। नामांकन करने से वो हमारे दिमाग में ज्यादा समय तक रहता है। न्यासा देवांगन ने कहा कि मुझे देश की सेवा करने के लिए मैं आईएएस बनना है। घर में पूरा परिवार है। पापा अलमारी बना देते हैं और मां घर का काम करती है।

ये भी पढ़ें: छत्तीसगढ: बोर्ड परीक्षा के दिखावे में आत्मानंद स्कूल का जलवा, 15 छात्रों ने टॉप 10 में जगह बनाई

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *