Home Feature राजीव बिंदल हिंदू धर्म को परिभाषित नहीं कर सकते, मंत्री विक्रमादित्य सिंह ने हिमाचल भाजपा अध्यक्ष एएनएन पर निशाना साधा

राजीव बिंदल हिंदू धर्म को परिभाषित नहीं कर सकते, मंत्री विक्रमादित्य सिंह ने हिमाचल भाजपा अध्यक्ष एएनएन पर निशाना साधा

0
राजीव बिंदल हिंदू धर्म को परिभाषित नहीं कर सकते, मंत्री विक्रमादित्य सिंह ने हिमाचल भाजपा अध्यक्ष एएनएन पर निशाना साधा

[ad_1]

हिमाचल समाचार: हिमाचल प्रदेश सरकार में लोक निर्माण मंत्री विक्रमादित्य सिंह ने हिमाचल बीजेपी अध्यक्ष डॉ. राजीव बिंदल पर पलटवार किया है। लोक निर्माण मंत्री विक्रमादित्य सिंह ने कहा कि डॉ. बिंदल हिंदू धर्म के नंबर नहीं हैं। अब प्रभु श्रीराम की कृपा बीजेपी से ज्यादा कांग्रेस पार्टी पर है। हाल ही में यह कृपा नगर निगम संचार चुनाव में भी नजर आई है।

‘बिंदल को अपना घर संभालने की जरूरत’

लोक निर्माण मंत्री विक्रमादित्य सिंह ने कहा कि डॉ. राजीव बिंदल को कांग्रेस पार्टी की चिंता छोड़ अपनी पार्टी के बारे में विचार करना चाहिए। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी दो ठोकर हो सकती है। डॉ. बिंदल को इस बारे में डाकिया भेजा जाना है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी अपने बारे में खुद विचार कर लेगी। प्रदेश अध्यक्ष सुखविंदर सिंह सुक्खू सरकार प्रदेश अध्यक्ष प्रतिभा सिंह और सरकार के मंत्री विकास को आगे बढ़ाने के लिए काम करेंगे। डॉ. बिंदल को अपना घर संभालने की जरूरत है।

ठहराव है कि डॉ. राजीव बिंदल ने हिमाचल प्रदेश के भागीदार सुखविंदर सिंह सुक्खू के बयानों पर आपत्ति जाहिर की थी। प्रदेश सुखविंदर सिंह सुक्खू ने कर्नाटक में प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा था कि हिमाचल प्रदेश में 97 हिंदू हिंदू आबादी वाले राज्य हैं, लेकिन वहां भी कांग्रेस पार्टी जीत हासिल कर रही है। इस बयान पर डॉ. बिंदल ने आपत्तिजनक जाहिर करते हुए इसे हिंदू धर्म का अपमान करार दिया था। हिमाचल बीजेपी अध्यक्ष डॉ. राजीव बिंदल के ऐसे ही बयानों पर अब लोक निर्माण मंत्री विक्रमादित्य सिंह ने पलटवार किया है।

‘हिमाचल की राजनीति पर कर्नाटक चुनाव का असर’

कर्नाटक विधानसभा चुनाव में फ्रैंक ध्रुवीकरण की राजनीति नजर आई। कर्नाटक की राजनीति का असर हिमाचल प्रदेश में भी देखने को मिल रहा है। भले ही दोनों प्रदेशों की दूरी आप में 2 हजार 500 किलोमीटर से ज्यादा हो, लेकिन सियासी बयानों ने दोनों राज्यों को एक जगह पर लाकर खड़ा कर दिया है। 97 फ़ीसदी हिंदू आबादी वाले हिमाचल प्रदेश में ध्रुवीकरण की राजनीति तो संभव नहीं है। लेकिन, हुए राजनीतिक दल अपनी सुविधा के अनुसार ईश्वर पर अपना अधिकार जताने की कोशिश में लगे हैं।

यह भी पढ़ें: हिमाचल प्रदेश: कांग्रेस में सब कुछ ठीक नहीं? मंत्री विक्रमादित्य सिंह ने सोशल मीडिया पर किया ऐसा पोस्ट

[ad_2]

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here