Home Lifestyle बुधवार गणेश पूजा विधि बुधवार के उपाय धन करियर वृद्धि के लिए लाभ

बुधवार गणेश पूजा विधि बुधवार के उपाय धन करियर वृद्धि के लिए लाभ

0
बुधवार गणेश पूजा विधि बुधवार के उपाय धन करियर वृद्धि के लिए लाभ

[ad_1]

बुधवार का उपाय: बुधवार के दिन गौरी पुत्र प्रथमपूजनीय गणेश जी को समर्पित है। भगवान गणेश को विघ्नहर्ता की डिग्री दी गई है, जिनसे आशीर्वाद से जीवन के हर विघ्न दूर होते हैं। संतत निरीक्षण, बच्चों की सफलता और सुरक्षा के लिए गणेश जी की पूजा अचूक की जाती है।

जिन पर गणपति की कृपा हो उन्हें राहु-केतु परेशान नहीं करते, जिनका पूजन करने के बाद ही कोई शुभ कार्य संपन्न होता है। शास्त्रों में बुधवार के कुछ खास उपाय बताए गए हैं जो घर में शुभता, सुख, समृद्धि और धन लाते हैं। आइए जानते हैं बुधवार के उपाय।

बुधवार के उपाय (Budhwar Ke Upay)

धर्म रीलों

व्यापार में विकास – गणपति को प्रसन्न करने के लिए बुधवार के दिन 21 दूर्वा जोड़ से गणेश जी को चढ़ाएं। मान्यता है इससे जॉब-कारोबार में आ रही रुकावटें खत्म होंगी और नौकरी के रास्ते खुलेंगे। हर दूर्वा चढ़ाने के बाद ओम गं गणपतये नमः का जाप करें।

बच्चों की पढ़ाई में एकाग्रता – गणेश जी की पूजा से बुद्धि कुशाग्र होती है। कहते हैं कि बुधवार के दिन बच्चों गणेश जी को सिंदूर संबंधित से उनका बौद्धिक विकास होता है। ग्राडीकरण खत्म होने लगता है। चिल्ड्रन की शिक्षा में खाता है। शास्त्रों के अनुसार कुंडली में राहु-केतु क्षतिग्रस्त हो जाते हैं तो शनि में झूठ बोलने की प्रवृत्ति बढ़ जाती है और शिक्षा में मन लग जाता है लेकिन हर बुधवार गणेश जी को सिंदूरने से इन पाप योजनाओं के प्रभाव नहीं लगते।

धन के भर जाएंगे भंडार – बुधवार के दिन किन्नरों को हरे रंग के कपड़ों का दान और गाय को हरी घास खिलाना शुभ फल माना जाता है। आर्थिक विकास होता है। बुध में बुध मजबूत होता है जिससे निर्णय लेने की क्षमता और विश्वास में वृद्धि होती है।

मानसिक तनाव से मुक्ति – बुधवार को ॐ बुं बुधाय नमः का जाप साधक को मानसिक तनाव से मुक्ति अपमान है। बुध के इन मंत्रों का जप करने से मन की एकाग्रता बढ़ती है। इस दिन हरे मूंग की दाल का दान भी कर सकते हैं।

हर क्षेत्र में सफलता के लिए – शास्त्रों में बुधवार के दिन बहन और भांजी के नाम के बारे में बताया गया है। बुधवार के दिन बहन और भांजी को उपहार से व्यापार, शिक्षा में विकास होता है और कुंडली में बुध के अशुभ प्रभाव से भी मुक्ति मिलती है। पारिवारिक संबंधों में कभी खटास नहीं आती।

शनि जयंती 2023: शनि जयंती पर इन चीजों को भूल भी नहीं सकते, शुरू हो जाएंगे बुरे दिन, शनि जंयती कब है?

अस्वीकरण: यहां बताई गई जानकारी सिर्फ संदेशों और जानकारियों पर आधारित है। यहां यह बताना जरूरी है कि ABPLive.com किसी भी तरह की मान्यता, जानकारी की पुष्टि नहीं करता है। किसी भी विशेषज्ञ की जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित सलाह लें।

[ad_2]

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here