बस्तर: शाहिद सील्स के नाम पर बनी सड़कें तीन साल में हुई खराब, बारिश में चलना मुश्किल

[ad_1]

<पी शैली ="टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफ़ाई करें;"बस्तर समाचार: छत्तीसगढ़ के आपके द्वारा प्रभावित बस्तर संभाग के सामान्य क्षेत्रों में धूम्रपान का जाल बिजाने के नाम पर बनाई गई पहली सड़कें कुछ वर्षों में ही भ्रष्टाचार की सदस्यता ले गए हैं।  करोड़ों रुपए खर्च किए गए प्रदूषण की खस्ता स्थिति ने ब्यां कर दिया है कि किसी निर्माण में किस कदर भ्रष्टाचार हुआ है। संभाग के अन्य नेटवर्क के साथ ही सुकमा जिले में भी साल 2020 में शहीदों के नाम पर बनी सड़क घटिया बनने के कारण पूरी तरह से उखड़ गया है।

<p style="टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफ़ाई करें;"50 प्रतिशत अधिक दर पर हुआ था सड़क का निर्माण
 दरअसल (LWE) योजना के तहत महत्व आर से 50% अधिक दर पर इस सड़क पर काम किया गया था लेकिन सड़क का काम गुणवत्ता विशनी तरीके से किए जाने से पूरी 12 किलोमीटर की सड़क उखड़ने लगी है। आलम यह है कि बारिश के मौसम में सड़क पर चलना भी मुश्किल हो जाएगा। जानकारी के मुताबिक कई सील्स ने सड़क निर्माण के दौरान इसकी सुरक्षा में लगकर अपनी शहादत दी थी। इस वजह से इस सड़क का बयान शाहिद विकास मार्ग के नाम पर रखा गया, लेकिन अब यह सड़क अपनी बदली पर आंसू बहा रही है।

<p style="टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफ़ाई करें;"विपक्ष ने लगाया भ्रष्टाचार का आरोप
दरअसल सुकमा जिले के कोंटा ब्लॉक के बर्नगुड़म से किष्टाराम तक करीब 12 किलोमीटर सड़क का निर्माण कार्य वर्ष 2020 में किया गया था। 2017 से जगह-जगह पुलिस कैंप के दौरान सड़क निर्माण कार्य शुरू किया गया, सड़क सुरक्षा कार्य के लिए बल तैनात किया गया, इस दौरान कई युवा शिकार हुए। इसके अलावा अन्य पौधे लगाए गए ईडी की चपेट में आने से भी सील्स की शहादत हुई। इसी तरह की सील ने उनकी शहीदों की याद में पैदागुड़ेम से किस्ताराम तक सड़क का काम पूरा होने तक सड़क को सुरक्षा दी और इस सड़क को शहीद विकास मार्ग का नाम दिया गया, लेकिन अब यह सड़क केवल तीन साल के अंदर ही बदल गई है। <पी शैली ="टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफ़ाई करें;"भ्रष्टाचारियों ने सील की शहादत के बारे में भी नहीं सोचा था’
सी सजा नेता और आरोपी महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष मनीष कुंजाम ने बताया कि लोक निर्माण विभाग द्वारा सिकंदरा के एक मोहन ब्रांड को ज़ोआर में 50% अधिक दर पर सड़क बनाने का ठेला दिया गया, सड़क की लागत 1 करोड़ 71 लाख से बढ़कर 2 करोड़ 53 लाख हो गई, लेकिन इस सड़क में 50 लाख रुपये का भी काम नहीं हुआ और शहीदों के नाम पर बनी स्ट्रीट ब्रॉप का सब्सक्राइबर है। उन्होंने कहा कि सरकारी सिस्टम में कमीशन खोरी इस कदर हुई कि जिम्मेदारों ने सील्स की शहादत को भी नहीं लिया और इस सड़क पर जमकर धूम मचाई। मनीष कुंजाम ने कहा कि इस मामले की जांच होनी चाहिए और घटिया सड़क निर्माण करने वाले दोषियों पर कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जानी चाहिए।

<p style="टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफ़ाई करें;"महज 3 साल में ही उखड़ गई पूरी सड़क
दरअसल सुकमा जिले में गंदगी फैलने से प्रभावित होने के कारण गंदगी का जाल होने की योजना बनाई गई थी, प्रशासन- प्रशासन के जिम्मेदारों ने यह दावा किया किया गया था कि सूँघने से नशा करने में कमी आएगी और प्रशासन की पहुँच अंतिम गाँव तक आसानी से हो जाएगी, इस योजना पर काम करते हुए लड़कों के गढ़ जाने वाले किस्ताराम तक पक्की सड़क बनाने की कवायद योजनाओं की सुरक्षा में शुरू की गई थी , सड़क बनने के 3 साल में ही 12 किमी की सड़क घटिया बनने के कारण जर्जर हो गई। इस मामले में लोक निर्माण विभाग के सभी इंजीनियर सिल्कलाल सूर्यवंशी जो वर्तमान में सीधेओ के आरोप में हैं, ने कहा कि सड़क की खाते की अवधि समाप्त हो गई है, जल्द ही सड़क की कामकाज शुरू की जाएगी, उसी समय विधानसभा के विधायक और प्रदेश के विधायक मंत्री कवासी लखमा का कहना है कि उक्त सड़क को सील्स की सुरक्षा में बनाया गया है, पीडब्ल्यूडी विभाग के जिम्मेदार अधिकारियों को बात करने के लिए सड़क को सुधारने के लिए निर्देशित किया जाएगा।

यह भी पढ़ें: <a title="छत्तीसगढ़: छत्तीसगढ़ भाजपा की कार्यसमिति की हुई बैठक, रमन सिंह ने कांग्रेस सरकार की बड़ी मांग की" href="https://www.abplive.com/states/chhattisgarh/chhattisgarh-bjp-working-committee-meeting-in-response-to-congress-emergency-meeting-ann-2409733" लक्ष्य ="_खुद"छत्तीसगढ़: छत्तीसगढ़ भाजपा की कार्यसमिति की बैठक हुई, रमन सिंह ने कांग्रेस सरकार की बड़ी मांग

[ad_2]

Source link

Umesh Solanki

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *