2000 रुपये का नोट आरबीआई के फैसले पर शरद पवार की टिप्पणी पढ़ें ताजा खबर | 2000 का नोट वापस लेने के लिए आरबीआई के फैसले पर शरद शरद ऋतु की पहली प्रतिक्रिया, जानें

0
67
 2000 रुपये का नोट आरबीआई के फैसले पर शरद पवार की टिप्पणी पढ़ें ताजा खबर |  2000 का नोट वापस लेने के लिए आरबीआई के फैसले पर शरद शरद ऋतु की पहली प्रतिक्रिया, जानें
Spread the love


शरद पवार : राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के प्रमुख शरद पवार ने सोमवार को कहा कि 2,000 रुपये के नोट को चलन से बाहर करने का फैसला किसी ”अस्थिर स्वभाव वाले व्यक्ति” (मूडी) की हरकत जैसा है। भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने 19 मई को 2,000 रुपये के नोट को वापस लेने की घोषणा की थी और कहा था कि मौजूदा नोट को या तो बैंक खाते में जमा किया जा सकता है या 30 सितंबर तक बदला जा सकता है।

यह एक मूडी व्यक्ति के रूप में धारणा है- शरद शरद ऋतु

चमकदार ने पांचों में वर्णित है, ‘यह एक मूडी व्यक्ति के रूप में निर्णय है। मुझे 2,000 रुपये के नोट बंद करने का जजमेंट के बारे में कुछ शॉपिंग मिली हैं।’ उन्होंने कहा कि नोटबंदी के बाद, पुणे ज़िला संयुक्त सहयोगी बैंक जैसे काम को नुकसान हुआ क्योंकि इनके पास मौजूद कई करोड़ रुपये नहीं चाहा जा सकता। पवार ने दावा किया कि कोल्हापुर जिला सहकारी बैंक के साथ भी ऐसा ही हुआ था।

2 हजार का नोट बंद करने को लेकर कई निशाने पर मोदी सरकार

दो हजार के नोट को बंद करने का जजमेंट लगातार मोदी सरकार पर हमलावर है। इससे पहले राजस्थान के अशोक गहलोत ने केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा था कि जब दो हजार का नोट बंद ही करना था तो इसे लाया क्यों गया। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार पहले भी ऐसी गलती कर चुकी है और अब फिर ऐसी गलती कर रही है। उन्होंने कहा कि सरकार ने पहले बगावत करते हुए नोटबंदी की थी और अब दो हजार के नोट बंद कर दिए। वहीं कांग्रेस नेता राजीव शुक्ला ने कहा था कि ऐसे काम से मजबूत होने के बजाय कमजोर होती है। वहीं एनसीपी नेता जितेंद्र आव्हाड ने मोदी सरकार का ऐसा फैसला सुनाया था कि 19 अक्टूबर को चुनाव नजदीक आ गए थे इसलिए 2 हजार रुपए के नोट पर पाबंदी लग गई।

यह भी पढ़ें:

महाराष्ट्र: राहुल गांधी पर शरद पवार का बड़ा बयान, कहा- ‘कर्नाटक चुनाव से साबित हो गया…’



Source link

Umesh Solanki

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here