एक ही देश के आधे से ज्यादा लोग इस बीमारी के शिकार हैं, दुनिया का हर दूसरा आदमी ये भटकता जा रहा है

[ad_1]

<पी शैली ="टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफ़ाई करें;"> आपको यह बात काफी हैरान कर सकती है कि एक देश की पिछली आबादी इस गंभीर बीमारी से जूझ रही है। दरअसल, यह कोई और नहीं बल्कि दुनिया का सुपरपाव देश अमेरिका है। जी हां, अमेरिका की पहले की आबादी हाई कोलेस्ट्रॉल की बीमारी से जूझ रही है। लगभग 40 मिलियन अमेरिकी एटोरवास्टेनिन (लिपिटर और जेनिक), लोवामिन (अल्टोप्रेव) और सिमावास्टेटिन (ज़ोकोर) जैसे कोलेस्ट्रॉल स्टैनिन ले रहे हैं। जो अब तक कोलेस्ट्रॉल दवाओं में सबसे अधिक उपयोगी है।  स्टेनिन कोलेस्ट्रॉल की समस्या को कम करने में काफी असरदार हैं। इस दवा की अच्छी बात यह है कि वह खराब कोलेस्ट्रॉल 25 से 55 प्रतिशत तक कम करती है। वहीं रक्त में जो वसा ट्राइग्लिसराइड्स कोलेस्ट्रॉल का लेवल होता है उसे भी आसानी से कम करने का काम करता है। किसी भी शरीर में सूजन और दिल का दौरा या जोखिम का जोखिम कम होता है। 

स्टेटिन किसी व्यक्ति को कब शुरू करना चाहिए

उम्र के आधार पर दवा देना गलत है

पिछले साल यूएस प्रिवेंटिव टास्क फोर्स ने बताया कि पहले दिल का दौरा या दुर्घटना की रोकथाम के लिए 76 साल से अधिक उम्र वाले लोगों को स्टेटिन दवा दी गई थी। कोलेस्ट्रॉल का एक मानक स्तर है जिसे बनाए रखते हुए इसे बढ़ने से बढ़ना चाहिए। क्लीवलैंड क्लिनिक में सेंटर फॉर गेरिएट्रिक मेडिसिन के प्रमुख अर्देशिर हाशमी कहते हैं। हम उम्र के आधार पर इस दवा को देने की बात नहीं कह रहे हैं। हम कह रहे हैं कि शरीर में बढ़ रहे हैं कोलेस्ट्रॉल को देखते हुए लोगों को इसकी दवा की आवश्यकता होती है। ताकि उन्हें काम से बचाया जा सके। तो पूरा चांस है कि उसे हाई जाम कोलेस्ट्रॉल और दिल का दौरा या आघात का खतरा काफी अधिक रहता है। अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन के अनुसार इसलिए 75 साल से कम उम्र के लोगों को जिनके लिए काफी अधिक जोखिम है, उन्हें स्टेटिन लेना चाहिए। अगर कोई व्यक्ति 75 साल से ज्यादा का है और उसे दिल की बीमारी है और दवाई के जरिए कंट्रोल किया जा रहा है तब भी आप स्टेटिन ले सकते हैं। 

डिस्क्लेमर- इस रिपोर्ट में बताई गई दवा किसी डॉक्टर द्वारा नहीं लिखी गई है। यह जस्ट रिपोर्ट्स पर आधारित है। कोई भी दवा या बीमारी ठीक करने के लिए डॉक्टर से जरूर संपर्क करें। एबीपी लाइव का मकसद सिर्फ जागरुक करना है।

ये भी पढ़ें: गर्मी व तेज धूप से आंखें हो रही हैं ये गंभीर बीमारी, लक्षण बेहद सामान्य हैं लेकिन रोशनी हो सकती है

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *