दिल्ली सिग्नेचर ब्रिज यूपी बॉर्डर सिग्नल फ्री ट्रैवल न्यूज एएनएन

0
64
दिल्ली सिग्नेचर ब्रिज यूपी बॉर्डर सिग्नल फ्री ट्रैवल न्यूज एएनएन
Spread the love


दिल्ली सरकार ने इस वित्तीय वर्ष के लिए पेश किए गए बजट में इंफ्रास्ट्रक्सचर जेट को लेकर कई योजनाओं की घोषणा की थी और इसके लिए बजट में विशेष ध्यान भी रखा गया था। सरकार ने बनाई योजना अब धरातल पर भी नजर आने लगी है। लगातार दिल्ली भर में नए फ्लाईओवर का निर्माण, विस्तारीकरण (विस्तार) और दोहरेकरण (दोहरीकरण) का काम चल रहा है, जिससे लोग किसी को दायरा के लिए वहां जाएं और विशेष विकल्प मिल सके।

इसी कड़ी में सिग्नेचर ब्रिज से ऊपर की सीमा तक फ्री रोड के लिए तैयारियां शुरू हो गई हैं। उत्तर पूर्वी दिल्ली के मंगल पांडे मार्ग पर नंद नगरी और गगन सिनेमा जंक्शन पर डबल डेकर (डबल डेकर) फ्लाईओवर के निर्माण का कार्य शुरू किया गया है।

पूरी परियोजना की लागत 340 करोड़ रुपये: दिल्ली मेट्रो और लोक निर्माण विभाग (पीडब्ल्यूडी) इस परियोजना पर काम कर रहे हैं। इस परियोजना की लागत लगभग 340 करोड़ रुपए है। मंगल पाण्डे का पूरा विस्तार लगभग 6 किलोमीटर है। योजना के अनुसार, डबल डेकर फ्लाईओवर (फ्लाईओवर) और अंडरपास (अंडरपास) के निर्माण के बाद उत्तर पूर्वी दिल्ली के इस क्षेत्र की सड़क का एक बड़ा हिस्सा सिग्नल फ्री (सिग्नल फ्री) होगा।

अगले दो घंटे में दिल्ली-एनसीआर के इन इलाकों में गरज के साथ हो सकती है रोशनी की बारिश, आईएमडी ने दी जानकारी

उत्तरप्रदेश की सीमा तक पहुँचें पैनामा सिग्नेचर ब्रिज से: पीडब्लूडी के अधिकारियों के अनुसार, इस परियोजना से सिग्नेचर ब्रिज से भोपुरा, उत्तर प्रदेश की सीमा तक आने में मदद मिलेगी। दरअसल यह सिग्नेचर ब्रिज के नजदीक तल से जोड़ा गया है और मंगल पांडे मार्ग से होते हुए यह भोपुरा तक पहुंचेगा। योजना की विस्तृत रिपोर्ट को पहले ही अधिकारियों द्वारा मंजूरी दी जा चुकी है और वित्तीय स्वीकृति भी सितंबर 2022 में पूर्व लोक निर्माण मंत्री द्वारा प्रदान की गई थी।

मंगल पांडे पर रहता है ट्रैफिक का भारी दबाव: बता दें कि उत्तर पूर्वी दिल्ली के सबसे प्रमुख धुएं में से एक मंगल पांडे मार्ग है, जोकि करावल नगर, घोंडा, मुस्तफाबाद, गोकलपुरी और नंद नगरी के आसपास की सैकड़ों कॉलोनियों को उत्तरी दिल्ली से अनुमेय है। इसीलिए इस सड़क पर ट्रैफिक का भारी दबाव भी रहता है।

सिग्नेचर ब्रिज से 12 मिनट में नॉम भोपुरा पहुंचें: दिल्ली सरकार ने कहा है कि जिन लोगों को सिग्नेचर ब्रिज के जरिए भोपुरा सीमा तक जाने की जरूरत है, उन्हें संकेत देने से मुक्त होने की सुविधा मिलेगी। अभी इस रास्ते को तय करने में वाहन चालकों को 25-30 मिनट का समय लगता है। लेकिन माना जा रहा है कि परियोजना के पूरा होने के बाद यह समय घटक 12 से 15 मिनट रह जाएगा।

नंद नगरी थाने और राज्य की सीमा के बीच काम शुरू: बता दें कि यहां मौजपुर, ईस्ट ऑफ लोनी रोड, नंदनगरी में फ्लाईओवर बने हुए हैं और सिग्नेचर ब्रिज से भोपुरा का पूरा रास्ता करीबन 11 किलोमीटर का है। लेकिन भजनपुरा के आसपास भारी जाम रहता है। दिल्ली मेट्रो के अधिकारियों ने कहा कि नंद नगर थाने और राज्य की सीमा के बीच काम शुरू हो गया है।

पैदल यात्रियों के लिए सब-वे बनाया जाएगा: सिक्स लेन के इस फ्लाईओवर में एक गैरमोटर चलने वाला क्षेत्र होगा जिसमें साइकिल आदि के लिए स्थान और जिम्मेदार होंगे। इसे कैरिजवे के दोनों पहलुओं पर रखा जाएगा। हालांकि यहां एक फुट ओवरब्रिज को तोड़ना पड़ता है और पैदल यात्रियों को सुरक्षित स्थिरता के लिए सबवे बनाया जाएगा। अधिकारियों ने बताया कि वजीराबाद से दासना संकेत मुक्त योजना का हिस्सा है, जिसमें दिल्ली के हिस्से में 468 करोड़ रुपए खर्च किए जाएंगे।



Source link

Umesh Solanki

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here