AM और PM Full Form अंतर और अर्थ जानें और संस्कृत भाषा में परिभाषित करें

0
81
Spread the love


संस्कृत में AM और PM के बीच अंतर: मानव द्वारा कई आविष्कार किए गए, जिसमें घड़ी भी एक है। प्राचीन काल से ही सूर्य की अवधारणा के आधार पर सुबह, दोपहर और शाम का अंदाजा लगाया जाता था। उसी रात में चांद और सितारों का सहयोग लेकर लोग समय का दावा किया गया था। लेकिन घड़ी के महत्वपूर्ण आविष्कार ने समय जानने के लिए होने वाली खाताधारक को दूर कर दिया।

आज दुनिया भर में लोग समय देखने के लिए घड़ी का उपयोग करते हैं, जिसमें डिजिटल घड़ी का अधिक प्रयोग किया जाता है। डिजिटल घड़ी में आप AM और PM से समय को सेट करते हैं। एक दिन में 24 घंटे का समय होता है। लेकिन AM और PM के संक्षिप्तीकरण में 12 घंटे का प्रयोग होता है।

अब ऐसे में कई लोगों के मन में यह सवाल होता है कि फाइनल ये AM और PM क्या होता है। कई लोगों को इस बारे में पता भी नहीं होता है। तो वहीं कुछ लोग डिजिटल घड़ी देखते समय AM और PM को लेकर असमंजस में रहते हैं। लेकिन समय देखने के लिए आपको AM और PM के बारे में जरूर पता होना चाहिए। तो जानिए क्या है AM और PM का अर्थ और दोनों के बीच का अंतर-

AM और PM के बीच अंतर

एक दिन में 24 घंटे होते हैं। लेकिन घड़ी में केवल 12 अंक ही होते हैं। इसलिए घड़ी में एक दिन में एक ही समय का अंकन दो बार दिखाई देता है। जैसे सुबह 7 बजे और रात 7 बजे का समय। यहां AM का मतलब एंटी मेरीडियम (Ante Meridiem) से और PM का अर्थ पोस्ट मेरीडियम से है। दोपहर से पहले का समय होता है। वहीं पीएम दोपहर के बाद का समय होता है।

यानी दोपहर से पहले के समय को जानने के लिए और दोपहर के बाद के समय को जानने के लिए पीएम का इस्तेमाल किया जाता है। इस तरह रात के 12 बजे से लेकर दोपहर के 12 बजे तक का समय होता है और दोपहर के 12 बजे से लेकर रात के 12 बजे तक का समय पीएम होता है। AM और PM लैटिन भाषा का शब्द है, जिसे हिंदी में पूर्वाह्न और अपराह्न कहते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि संस्कृत भाषा में AM और PM को क्या कहा जाता है।

संस्कृत से दूर AM और PM का संशय

हमारी प्राचीन भाषा संस्कृत है। हिंदू धर्म के सभी ग्रंथ भी संस्कृत भाषा में लिखे गए हैं। भारत की कई भाषाएँ संस्कृत से ही प्राप्त हुई हैं। इसलिए इसे कई भारतीय आकाशगंगा की जननी कहा जाता है। स्वर, व्यंजन, लिप्स, ग्रंथ, अंक, समय आदि भी संस्कृत में है। लैटिन भाषा के AM और PM में यह जाना जाता है कि AM (एंटी मेरिडियन) यानी पहले और PM (पोस्ट मेरिडियन) यानी बाद में होता है। हालांकि यह पूरी तरह से किसी भी तरह से साफ नहीं होता है। लेकिन इसे संस्कृत में बताया गया है।

AM और PM को संस्कृत में क्या कहते हैं

अग्रेंजी भाषा का अक्षर AM (AM) और PM (PM) पुराने संस्कृत भाषा के प्रारंभिक अक्षर हैं। में

AM : आरोहणम् मार्तण्डस्य आरोहणम मार्तण्डस्य
पीएम : पतनम् मार्टण्डस्य पतनम मार्तंडस्य

आरोहणम् का अर्थ हैचड़ना, पतनम् का अर्थ है गिरना और मार्टण्डस्य का अर्थ है सूर्य। इस प्रकार से आरोहणम् मार्तण्डस्य का अर्थ है सूर्य का दावा और पतनम् मार्तण्डस्य का अर्थ है सूर्य का धारणना। दिन के 12 बजे से पहले सूर्य छत्रता है और 12 बजे के बाद सूर्य छत्ता है। सूर्य ही आकाशीय गणना का मूल है।

ये भी पढ़ें: ज्येष्ठ पूर्णिमा 2023 तिथि: 3 या 4 जून ज्येष्ठ पूर्णिमा कब है? नोट करें सही तिथि, मुहूर्त, उसी दिन है वट सावित्री पूर्णिमा व्रत

अस्वीकरण : यहां देखें सूचना स्ट्रीमिंग सिर्फ और सूचनाओं पर आधारित है। यहां यह बताना जरूरी है कि ABPLive.com किसी भी तरह की मान्यता, जानकारी की पुष्टि नहीं करता है। किसी भी विशेषज्ञ की जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित सलाह लें।



Source link

Umesh Solanki

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here