Home Breaking News Brij Bhushan Sharan Singh बृजभूषण के खिलाफ 2 FIR, छेड़छाड़ समेत कई गंभीर आरोप, जानें- इन धाराओं में कितनी सजा का प्रावधान

Brij Bhushan Sharan Singh बृजभूषण के खिलाफ 2 FIR, छेड़छाड़ समेत कई गंभीर आरोप, जानें- इन धाराओं में कितनी सजा का प्रावधान

0
Brij Bhushan Sharan Singh बृजभूषण के खिलाफ 2 FIR, छेड़छाड़ समेत कई गंभीर आरोप, जानें- इन धाराओं में कितनी सजा का प्रावधान

बृजभूषण शरण सिंह फोटो फेसबुक

बृजभूषण शरण सिंह के खिलाफ दर्ज एफआईआर के मुताबिक़, गलत तरीके से छूना, बहाने से छाती के ऊपर हाथ रखने की कोशिश या हाथ रखना, छाती से पीठ तक हाथ को लेकर जाना, पीछा करना शामिल है.

नई दिल्‍ली: इण्डियन एक्सप्रेस के अनुसार पहलवानों के यौन उत्पीड़न के आरोपों का सामना कर रहे भारतीय कुश्ती महासंघ के निवर्तमान अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह के खिलाफ दिल्ली के कनॉट प्लेस थाने में दो एफआईआर दर्ज हैं. बृजभूषण के खिलाफ 2 एफआईआर में यौन शोषण की मांग/छेड़छाड़ के कम से कम 10 मामलों की शिकायत है. शिकायत में 10 ऐसे मामलों का जिक्र है, जिसमें छेड़छाड़ की शिकायत है. शीर्ष पहलवानों ने 23 अप्रैल को भारतीय कुश्ती महासंघ (डब्ल्यूएफआई) के प्रमुख बृजभूषण शरण सिंह को गिरफ्तार करने की मांग को लेकर अपना आंदोलन फिर से शुरू किया था.

बृजभूषण शरण सिंह के खिलाफ दर्ज एफआईआर के मुताबिक़, गलत तरीके से छूना, बहाने से छाती के ऊपर हाथ रखने की कोशिश या हाथ रखना, छाती से पीठ तक हाथ को लेकर जाना, पीछा करना शामिल है. दिल्ली पुलिस ने 28 अप्रैल को ये दो एफआईआर दर्ज़ की थीं. उनके खिलाफ 21 अप्रैल को शिकायत दर्ज़ कराई गई थी.

बृजभूषण शरण सिंह के खिलाफ दर्ज दोनों एफआईआर में आईपीसी की धारा 354 (महिला की लज्जा भंग करने के इरादे से उस पर हमला या आपराधिक बल प्रयोग), 354ए (यौन उत्पीड़न), 354डी (पीछा करना) और 34 (सामान्य इरादे) के अंतर्गत दर्ज़ हैं. 353ए में एक से तीन साल की जेल की सजा है.बृजभूषण शरण सिंह के खिलाफ दर्ज दोनों एफआईआर में आईपीसी की धारा 354 (महिला की लज्जा भंग करने के इरादे से उस पर हमला या आपराधिक बल प्रयोग), 354ए (यौन उत्पीड़न), 354डी (पीछा करना) और 34 (सामान्य इरादे) के अंतर्गत दर्ज़ हैं. 353ए में एक से तीन साल की जेल की सजा है.

महिला पहलवान खिलाड़ी

पहली FIR इसमें छह वयस्क पहलवानों के आरोप शामिल हैं. इसमें डब्‍ल्‍यूएफआई (WFI) के सचिव विनोद तोमर का भी नाम है. दूसरी एफआईआर एक नाबालिग के पिता की शिकायत पर आधारित है और POCSO अधिनियम की धारा 10 को भी लागू करती है, जिसमें पांच से सात साल की कैद हो सकती है. यौन उत्पीड़न की शिकायतों में जिन घटनाओं की बात हैं वो 2012 से 2022 के बीच हुई. यौन उत्पीड़न भारत और विदेश दोनों में किया गया.

एफआईआर में बताया गया है कि बृजभूषण ने कस कर पकड़ लिया. तस्वीर खिंचवाने का नाटक किया. कंधे पर जोर से दबाया और फिर उसके शरीर को ग़लत तरीक़े से छुआ. पीड़िता की शिकायत की बृजभूषण ने मना करने के बावजूद उसका पीछा किया.

6 बालिग महिला रेसलर की शिकायत के अनुसार

पहली शिकायत—- होटल के रेस्तरां में रात के खाने के दौरान मुझे अपनी मेज पर बुलाया, मुझे टच किया, छाती से पेट तक छुआ. रेसलिंग फेडरेशन के ऑफिस में बिना मेरी इजाजत के मेरे कुटनो मेरे भाई कंधों और हथेली को छुआ गया. अपने पैर से मेरे पैर को भी टच किया गया. मेरी सांसों के पैटर्न को समझने के बहाने से छाती से पेट तक टच किया गया.

दूसरी शिकायत—– जब मैं चटाई पर लेटी हुई थी, आरोपी (सिंह) मेरे पास आया, मेरे कोच उस वक्त नहीं थे, मेरी अनुमति के बिना मेरी टी-शर्ट खींची, अपना हाथ मेरे ऊपर रख दिया छाती पर और मेरी श्वास की जांच के बहाने इसे मेरे पेट के नीचे सरका दिया. फेडरेशन के ऑफिस में मैं अपने भाई के साथ थी, मुझे बुलाया और भाई को रुकने को कहा गया, फिर कमरे में अपनी तरफ खींचा जबरदस्ती.

तीसरी शिकायत —– माता-पिता से बात करने के लिए कहा- मुझे गले लगाया, मुझे रिश्वत देने की बात कही.

चौथी शिकायत—- सांस की जांच करने के बहाने नाभि पर हाथ रख दिया.

पांचवीं शिकायत —- मैं लाइन में सबसे पीछे थी, तभी गलत तरीके से छुआ, मैंने जब दूर जाने की कोशिश की तो कंधे को पकड़ लिया.

छठी शिकायतत —- तस्वीर के बहाने कंधे पर हाथ रखा, मैंने विरोध किया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here