अखिलेश यादव पर मुस्लिम हमलों पर कैबिनेट मंत्री संजय निषाद ओडिशा ट्रेन दुर्घटना नरेंद्र मोदी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ एएनएन | यूपी पॉलिटिक्स: योगी के मंत्री संजय निषाद का मुस्लिम को लेकर बड़ा दावा, कहा

0
51
Spread the love


यूपी समाचार: निषाद पार्टी (निषाद पार्टी) के अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश सरकार में कैबिनेट मंत्री संजय निषाद (संजय निषाद) ने इटावा (इटावा) में विधायक को लेकर बड़ा बयान दिया है। संजय निषाद ने कहा कि मुस्लिम एससी, एसटी से ज्यादा गरीब हो गए हैं। हम बिना किसी भेदभाव के सरकारी योजनाओं को लागू कर रहे हैं। वे भी हमारे लोग हैं, उन्हें तलवार की नोक पर धर्म में बदल दिया गया है। गले पर तलवार रखी और बदल दी गई थी। हमारी पार्टी से मुस्लिम जुड़ रहे हैं। वो भी सब अपने हैं। वह तो तलवार की प्रतिक्रिया किए गए थे। गर्दन पर गर्दन रखकर उसकी जगह ले ली, तोप रख दी और धर्म बदल दिया। हम लोग सिर्फ विचारधारा लोगों को सेवा दे रहे हैं।

संजय निषाद ने कहा कि 9 साल का बेमिसाल है। सरकार की उपलब्धता को हम जनता को बताते हैं। हमारी जिम्मेदारी बनती है कि जनता से जो हमने बातें की हैं, उसे हमने पूरा किया और हम उनकी इस बात की जानकारी दें। सरकार लगातार अच्छा काम कर रही है। इसी वजह से लगातार बीजेपी 2014, 2019, 2022 और अब 2024 फिर हम जीत जा रहे हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मछुआरों को 26 हजार करोड़ रुपए दिए गए हैं। सरकार विकास के लिए काम कर रही है।

अखिलेश यादव पर संजय निषाद ने साधा

धारणा की ओर से विकास के नाम पर जनता को सिर्फ आकर्षित किया जा रहा है। इस सवाल के जवाब में संजय निषाद ने कहा कि वह बताते हैं कि उन्होंने 30 साल में क्या काम किया। पिछड़ों के लिए हमने यह काम किया, हमने आयोग ने उनके लिए बनाया, आयोग तक तो नहीं बनाया, जिसकी वजह से कोर्ट ने पिछड़ों को लटका दिया। सरकार ने पिछड़ों के लिए आयोग बनाया। सुप्रीम कोर्ट में मैंने रिपोर्ट तैयार करके दी है। इसके बाद अधिकारी का चुनाव विवरण बिल्कुल तुरंत हुआ। अखिलेश यादव अपनी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं, पूर्व सदस्य भी रहे हैं तो उन्होंने अपने दो बार में किए गए कार्यों को पत्राचार किया। उन्होंने बस लिया कुर्ता पहन कर पिछली सीट पर बैठ गए।

कैबिनेट मंत्री ने कहा कि जब कानून बनाने की सुरक्षा की बात आएगी, न्याय की बात आएगी तो वह सदन से बाहर भाग जाएंगे, फिर कुछ सामने आएंगे और कहेंगे तो कौन कर रहा है, यह समाज जा चुका है। हमारा पूरा समुदाय पीएम मोदी के साथ है। पीएम मोदी और सीएम योगी हमारे समुदाय के साथ हैं। हमने हर सेक्टर में और बिना भेदभाव के काम किया है।

रेल दुर्घटना में कमी आई- संजय निषाद

वहीं आइसलैंड रेल दुर्घटना पर आशंका की ओर से इस्तीफे के सवाल पर संजय निषाद ने कहा कि इस्तीफ देने की बात कह रहे हैं, आपके समय में अगर किसी ने इस्तीफ़ा दिया हो तो बताएं। ऐसे प्रधानमंत्री हैं जो वन्यजीवों पर गए और लोगों की सेवा की। इससे पहले कौन प्रधानमंत्री गया है। दुख की घड़ी में किसी को राजनीति नहीं करना चाहिए। आगे ऐसी घटना ना हो उस पर देखना चाहिए। महान व्यक्ति होता है और उसके लिए दंड मिलता है। जब से हम लोग आए हैं, तब से घटनाएँ बहुत कम हो गई हैं।

इसके अलावा खाप पंचायत की ओर से पहलवानों का समर्थन करना और 9 जून को सरकार को अल्टीमेटम दिया जाता है या तो गिरफ्तारी या विरोध के लिए तैयार रहने के जवाब में संजय निषाद ने कहा कि खाली बनिया शोक का सामान उद्द करे। ऐसा ही खाली नेता लोग क्या करें. आज के दिन जो कोर्ट में है तो कोर्ट का सम्मान करना चाहिए।

‘हमारी पार्टी से मुस्लिम जुड़ रहे हैं’

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के बयान भारत में मुस्लिम सबसे ज्यादा सुरक्षित है के जवाब में संजय निषाद ने कहा कि वह हमारे सांस्कृतिक विरासत के संस्थानों, अधिकारों के अधिकारों को नष्ट कर दिया था, आज हम लोग घर से कह सकते हैं जो काम आरक्षक ने किया है, वह 70 साल में किसी ने नहीं किया, अगर सच नहीं होता तो पता नहीं आज हम लोग कहां होते हैं। तुष्टिकरण, धारा 370, हिंदू-मुसलमान दंगों से मुक्ति मिली। राम मंदिर बनकर तैयार हो गया, इसकी वजह से सनसनीखेज राजनीति खत्म हो गई।

संजय निषाद ने कहा कि मुस्लिम के नाम पर राजनीति करने वाली पार्टियां जो वोट लेती हैं, उसका मुसलमान भी समझ गया है। एससीएसटी से अधिक गरीब मुस्लिम समुदाय में है। हमारी पार्टी ने भेदभाव के बिना घर दिया, भेदभाव के बिना हमने आयुष्मान भारत कार्ड दिया भोजना हम ज्यादा दे रहे हैं। हमारी पार्टी से मुस्लिम जुड़ रहे हैं, वो भी सब अपने हैं। वह तो तलवार की प्रतिक्रिया किए गए थे। गर्दन गर्दन पर रख दिया दिया, तोप रख दिया और धर्म बदल दिया। हम लोग सिर्फ विचारधारा रखने वालों को सेवा दे रहे हैं।

ये भी पढ़ें- यूपी पॉलिटिक्स: पुलिस जान बचाने के लिए बुलडोजर के छिप जाएं? बीजेपी सांसद का जिक्र अखिलेश यादव ने क्यों कही ये बात



Source link

Umesh Solanki

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here