नहाने के दौरान शरीर के इन अंगों को नहीं धोते हैं ज्यादातर लोग, डॉक्टर ने दी चेतावनी

0
71
Spread the love


अपने शरीर को साफ और स्वच्छ रखने के लिए हम हर रोज नाहाते हैं। अपने बॉडी के सभी हिस्सों को साफ करते हैं। मगर क्या आप जानते हैं कि हम नहाते वक्त कुछ ऐसे कपड़ों की सफाई को इग्नोर कर देते हैं, जिन्हें साफ रखना भी बहुत जरूरी होता है। डॉक्टर ने शरीर के कुछ ऐसे ही कपड़ों के बारे में बताया है, जिस दिन सफाई पर ज्यादातर लोग ध्यान नहीं देते। क्योंकि उन्हें लगता है कि उन हिस्सों को साफ करने की जरूरत नहीं है।

विशेषज्ञ की निशानी तो पैर और नाखून शरीर के दो ऐसे हिस्से हैं, विशेष साफ-सफाई पर ध्यान देना जरूरी नहीं है। उन्हें लगता है कि नहाते घबराहट का पानी खुद-ब-खुद टांगों या महानगरों तक पहुंच जाता है तो उन्हें अलग-अलग साफ करने की जरूरत है। दरअसल जब हम शरीर के बाकी अंगों से गंदगी फैलाते हैं तो ये पूरी गंदगी पानी के साथ बहकर निशान या चिपचिपाहट में चिपक जाती है और अगर आपने इन हिस्सों को साफ नहीं किया है तो इन संक्रमणों का खतरा पैदा हो सकता है। यही कारण है कि शरीर के बाकी अंगों की तरह आपको इन हिस्सों (पैरों और डेस्क) की भी अच्छी तरह से सफाई करनी चाहिए।

एथलीट वर्क इन्फेक्शन का जोखिम बढ़ जाता है

एक रिपोर्ट के मुताबिक, 50 प्रतिशत महिलाएं और पुरुष नहाते वक्त अपने पैरों को धोते नहीं हैं। जबकि 25 प्रतिशत लोग ऐसे हैं, जो कभी-कभी गलती करते हैं। रोज नहाने की वजह से पैर बहुत ज्यादा सख्त हो जाते हैं और मैले हो जाते हैं। तलवे पर गंदगी चिपक जाती है, जिसके लिए कई बार बहुत ज्यादा मेहनत करनी पड़ती है। अगर आपको लगता है कि पैरों को शेयर करना इतना जरूरी नहीं होता है तो हम बता दें कि ब्रिटेन और अमेरिका में 25 प्रतिशत लोग हाथ पैरों के संक्रमण से पीड़ित हैं, जो पैरों को प्रभावित करते हैं। पैर में इंफेक्शन की वजह से पैर फटने लगते हैं। पैरों की त्वचा छिलने लगती है। इनमें खुजली और जलन भी होने लगती है।

हर दूसरे दिन साबुन पैर

अमेरिकन हेल्थ एजेंसी का कहना है कि हर किसी को हर दूसरे दिन अपने पैरों को साबुन से अच्छी तरह से ले जाना चाहिए। निगरानी के बीच में भी साबुन लगाना चाहिए। पैर के हर हिस्से को साफ करना चाहिए। अगर आप और जूते पहन रहे हैं तो पहले पैरों को अच्छी तरह सुखा लें। मामूली टैग में और संक्षेप में नहीं। वहीं, सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) का कहना है कि हर व्यक्ति को 6-8 सप्ताह में एक बार डेस्क को जरूर काट लेना चाहिए।

ये भी पढ़ें: दुनिया का अकेला ऐसा गांव, जहां आज तक नहीं हुई बारिश, फिर यहां कैसे जिंदा रहते हैं लोग?

नीचे स्वास्थ्य उपकरण देखें-
अपने बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) की गणना करें

आयु कैलक्यूलेटर के माध्यम से आयु की गणना करें



Source link

Umesh Solanki

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here