[ad_1]

छठ पूजा 2023 तिथि: भारत के प्रमुख त्योहारों में से एक है छठ पूजा का पर्व। ये त्योहार केवल भारत में ही नहीं बल्कि विदेश में रहें भारतीय भी यादगार हैं। इस त्योहार का बड़ा महत्व है। भारत में ये त्योहार बिहार में रहने वालों के लिए विशेष महत्व रखता है। इस साल छठ पूजा 17 नवंबर, शुक्रवार के दिन संगत होगी जो 20 नवंबर को उषा अर्घ के साथ समाप्त होगी।








छठ पूजा का दिन छठ पूजा का दिन छठ पूजा अनुष्ठान
शुक्रवार 17 नवंबर 2023 नहाय खाय
शनिवार 18 नवंबर 2023 खरना
रविवार 19 नवंबर 2023 ईवी अर्घ
सोमवार 20 नवंबर 2023 सूर्योदय/उषा अर्घ

छठ पूजा की विधि

  • छठ पूजा से दो दिन पहले चतुर्थी के दिन स्नान करने के बाद भोजन किया जाता है।
  • पंचमी के दिन व्रत के दिन शाम के समय नदी में स्नान करने के बाद सूर्य को अर्घ दिया जाता है।
  • इसके बाद व्रत का पारण किया जाता है।
  • पूरे दिन बिना जल पिए, जल में स्नान करके सूर्यदेव को अर्घ दिया जाता है।

छठ पूजा का महत्व (छठ पूजा महत्व)
छठ पूजा में मय्या की पूजा करने का विधान है। भगवान सूर्य को अर्घ देने का कथन है। इस माहपर्व पर बिना जागृत पिए माता-पिता 36 घंटे तक निर्जाला शत्रु हैं। निर्जला व्रत कथा का पालन करते हुए विधि विधान से उनके देवता उन्हें संत सुख, संतान को उत्तम स्वास्थ, सूर्य के गुण, तेज बल प्राप्त होता है।

हिंदू मान्यता: हिंदू धर्म में सिर कपडे क्यों जरूरी हैं, इसका धार्मिक और आध्यात्मिक महत्व क्या है

अस्वीकरण: यहां बताई गई जानकारी सिर्फ संदेशों और सूचनाओं पर आधारित है। यहां यह बताता है कि ABPLive.com किसी भी तरह की मान्यता, सूचना की पुष्टि नहीं करता है। किसी भी विशेषज्ञ की जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित सलाह लें।

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *