[ad_1]

दिल्ली समाचार: अरविंद अरविंद केजरीवाल ने अरविंद केजरीवाल ने भगवान बिरसा मुंडा की पुण्यतिथि (Birsa Munda Punyatithi) पर उन्हें याद करते हुए एक ट्वीट किया है। दिल्ली के सीएम ने ट्वीट कर ट्वीट किया कि पौराणिक संस्कृति की रक्षा के लिए भगवान बिरसा मुंडा ने अपना जीवन समर्पित कर दिया था. यही कारण है कि पृथ्वीपुत्र बिरसा मुंडा जी को उल्लेखनीय समाज के लोग उन्हें भगवान के रूप में सम्मान देते हैं। उनकी पुण्यतिथि पर उन्हें कोटि-कोटि नमन।

इसके अलावा, दिल्ली के मुख्यमंत्री ने कहा कि विविध संस्कृति के संरक्षक भगवान बिरसा मुंडा जी के त्याग को हमेशा याद किया जाएगा। उनके सभी प्रयास अपनी विरासत को संरक्षित करने की दिशा में काम करने के लिए प्रेरित करते हैं। सीएम अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट किया है कि जब वो विपक्षी दलों को एकजुट करने के मुहावरे के तहत अलग-अलग राज्यों के राजनीतिक दलों के नेताओं से मिल रहे हैं।

सीएम अरविंद केजरीवाल ने ये ट्वीट किया है उस समय जब देश की राजधानी दिल्ली में सेंटर की ओर से फॉलोइंग लागू होने के बाद से आप और बीजेपी के बीच घमासान मचा है. यही कारण है कि दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल क्लोजर के खिलाफ विपक्षी पार्टियों को यूनिटी सर्टिफिकेट देते हैं। इस फैसले में उन्हें शुरुआती सफलता मिली है। यही कारण है कि इस बार अरविंद केजरीवाल कांग्रेसी नेताओं की ओर से बयानबाजी के बावजूद कोई प्रतिक्रिया देने से बच रहे हैं। इस मस्जिद में वो अपना हर जमाना नापतौल कर दे रहे हैं। दूसरी तरफ वो कदम के खिलाफ 11 जून को आम आदमी पार्टी की प्रस्तावित रैली की तैयारी को भी अंतिम स्पर्श देने के अभियान से जुड़े हैं। दिल्ली में 11 जून को रामलीला मैदान में प्रस्तावित महा रैली को आम आदमी पार्टी की ओर से शक्ति प्रदर्शन माना जा रहा है।

बिरसा मुंडा का जीवन देश सेवा के लिए प्रेरित करता रहेगा

आम आदमी पार्टी के ट्वीटर हैंडल से भी धरती आबा भगवान बिरसा मुंडा जी की पुण्यतिथि पर उन्हें शत-शत नमन करते हुए श्रद्धांजलि अर्पित की जाती है। दिल्ली के शिक्षा मंत्री आतिश ने भी अपने ट्वीट में बिरसा मुंडा को महान स्वतंत्रता सेनानी व जनजातीय संस्कृति का संरक्षक बताया है। उन्होंने भगवान बिरसा मुंडा जी की पुण्यतिथि पर उन्हें कोटि कोटि नमन किया। उन्होंने कहा कि जल-जंगल और जमीन नारे के साथ आदिवासियों के अधिकारों की रक्षा और अत्याचारियों के खिलाफ उनका संघर्ष हमेशा हमें निडरता के साथ देश सेवा के लिए प्रेरित करता रहेगा।

कौन थे भगवान बिरसा मुंडा

दरअसल, भगवान बिरसा मुंडा (बिरसा मुंडा) उल्लेखनीय समाज के ऐसे नायक हैं जिन्को जनजातीय लोग आज भी गर्व से याद करते हैं। बिरसा मुंडा ने आदिवासियों की छाया के लिए ब्रिटिश शासन के खिलाफ भी आवाज उठाई थी। उनके योगदान को देखते हुए ही उनके चित्र मंडली संग्रहालय में भी दिलचस्पी दिखाई देने लगी है। यहां पर इस बात का भी जिक्र कर दें कि यह सम्मान आदिवासी समुदाय में केवल बिरसा मुंडा को ही अब तक हासिल है।

यह भी पढ़ें: दिल्ली पॉलिटिक्स: दिल्ली सरकार के आगे नतमस्तक हुए बीजेपी विधायक केजरीवाल-सिसोदिया की खुशी करते हुए LG-केंद्र को एक्सपोज

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *