कोटा सड़क हादसा अनियंत्रित जीप क्रैश बैरियर से टकराई राजस्थान समाचार अन्न

0
50
Spread the love


कोटा समाचार: कोटा शहर के रानपुर थाना के निकटवर्ती चित्तौड़गढ़ हाईवे पर अनंतपुराबंधा धर्मपुरा फोरलेन के बीच एक दुखद हादसा हो गया। हादसे में जीप के पलट जाने के बाद दीवार से टकराने से तीन लोगों की मौत हो गई। जबकि चार अन्य लोग घायल हो गए। प्रामाणिक उपचार मेडिकल कॉलेज कोटा में किया जा रहा है। सभी लोग आपस में रिश्ते और टेंट लगाने का काम करते हैं। घटना की सूचना मिलते ही आला अधिकारी वन्यजीवों पर पहुंच गए और उनकी हर संभव मदद की।

काम पूरा होने पर लौट रहे थे अपना घर
डिप्टी एसपी हर्षराज सिंह खरेडा ने बताया कि ये सभी लोग भोपाल में एक कार्यक्रम का टेंट लगाकर वहां से काम पूरा होने पर लौट रहे थे. सुबह उनकी जीप कोटा से लसोट की और जा रही थी तभी अचानक ट्रक के सामने आने या खटखट लगने से जीपी घुस गया और जीप सड़क के पास बनी दीवार से टकरा गई। इसके बाद कई घायल सड़क पर आ गए। इसी दौरान अली मार्निंग यहां से निकल रही पुलिस जीपी ने इन्हें देखा तो कंट्रोल रूम व एम्बुलेंस को सूचना दी और सभी अस्पताल को अपडेट किया गया। ये सभी लोग अपने घर लौट रहे थे।

सिर में चोट लगने से मौत
पुलिस उपाधीक्षक हर्षराज ने बताया कि शुरुआती जांच में सामने आया कि लालसोट (दौसा) के घाटा गांव के साहब सिंह, बना सिंह, लोकेश, सोनू, हरिकेश, विश्राम, मनभावन टेंट लगाने का कार्य करते हैं और ज्यादातर समय साथ ही जाते हैं। ये सभी लोग दौसा के गिर्राज गुर्जर के टेंट हाउस में काम करते हैं। ये सभी लोग 27 मई को भोपाल के भेल में छिपे हुए टेंट लगाए हुए थे, खतरे के बाद जब काम पूरा हो गया तो यह टेंट खोलकर अपने घर की ओर जा रहे थे। उसी दिन सुबह करीब 4.30 बजे ये हादसा हुआ, जिसमें ज्यादातर लोगों के चोटे आई हैं, तीन के सिर में गंभीर चोट लगने से मौत हो गई। घायल विश्राम ने बताया कि वह हरिकेश गुर्जर का भाई है।

इन लोगों की मौत हो गई
लोकेश और सोनू भी आपस में संबंध रखते हैं। वहीं, दुर्लभ साहेब सिंह और मनभावन, विश्राम के जीजा लेते हैं। बना सिंह भी भाई लगता है। मृत में दौसा निवासी एलेक्जेंड्रा (22) साहब सिंह, लालसोट निवासी बन्ना लाल (36) और मनभावन गुर्जर (45) शामिल हैं। शोक, घायलों की शिनाख्त विश्राम (24), लोकेश (18), सोनू (19) और हरकेश (16) के रूप में हुई है। सत्य उपचार किया जा रहा है।

ये भी पढ़ें: राजस्थान: जानें- मेवाड़ के योद्धा बप्पा रावल का इतिहास, वैसे ही नाम से जाना जाता है पाकिस्तान का रावलपिंडी



Source link

Umesh Solanki

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here