[ad_1]

<पी शैली ="टेक्स्ट-एलाइन: जस्टिफ़ाई करें;">बांछी ने नॉर्मल अलाटो है। लेकिन, कई बार यह हमारे लिए परेशानी का सबब बन जाता है। कुछ लोगों को सुबह के समय नींद बार बार छींकने लगती है। छींक आने के साथ-साथ उन्हें गले में खुजली, लाल नाक होना, नाक में खुजली आदि होने का भी सामना करना पड़ता है। ये समस्या एलर्जी की वजह से होती है। इसे चिकित्सीय भाषा में एलर्जिक राइनाइटिस (एलर्जिक राइनाइटिस) कहते हैं। एलर्जिक राइनाइटिस एलर्जेन के कारण होने वाली बहुत आम समस्या है। इसकी वजह धूल, पालतू जानवर के बाल या गंध, पेंट, छिड़काव, प्रदूषण आदि हो सकते हैं।

कई बार मौसम के प्रभाव से भी ये समस्या हो सकती है, जिनको रोज छींक आती है उन लोगों को यह समस्या हर दूसरे दिन जितनी होती है। ऐसे में इस समस्या के पीछे के कारणों के बारे में पता होना जरूरी है।  यह बहुत खतरनाक नहीं है क्योंकि यह बहुत सामान्य है और यह बहुत से लोगों के साथ होता है। आइए जानते हैं रोज सुबह-सुबह छींक आने के क्या कारण हो सकते हैं। 

सुबह सुबह छींक आने का कारण

1। रोज सुबह छींकने से एलर्जी राइनाइटिस के लक्षण हो सकते हैं। जब किसी को एलर्जिक राइनाइटिस की समस्या हो जाती है तो उसे सुबह-सुबह नींद में छींकने की समस्या का सामना करना पड़ता है।

2। अगर किसी को साइनस की समस्या होती है तो भी सुबह-सुबह नींद आने पर छींक आने की समस्या हो सकती है। हालांकि जब ये समस्या बढ़ती है तो छींकने के साथ-साथ व्यक्ति के चेहरे पर सूजन, नाक और गले में जलन, सिर में दर्द जैसी परेशानी होने लगती है। 

3. अगर आपकी नाक में रूखापन होता है तो किसी भी व्यक्ति को सुबह के समय छींक आने की समस्या हो सकती है। ऐसा तब होता है जब कमरे का क्लाइमेट ड्रा हो जाता है। ऐसे में रात के समय नाक में रूखापन होने की समस्या हो सकती है।

इन सभी बातों से पता चलता है कि सुबह के समय जब किसी को बार-बार छींक आती है तो इसके पीछे कुछ कारण जिम्मेदार हो सकते हैं। ऐसे में समय रहना इन कारणों को दूर करना जरूरी है। वर्ना समस्या और बढ़ सकती है।

अंछा के अलावा ये लक्षण भी आ सकते हैं सामने

1। खांसी और गले में खराश 

2। जुकाम महसूस होना 

3. लगातार सिरदर्द 

 4. आंखों के नीचे धब्बेदार 

5। अत्यधिक थकान 

इस समस्या को ठीक करने के देशी उपाय

1। अगर आपको ऐसी समस्या हो रही है तो नियमित रूप से नियमित रूप से नियमित रूप से भोजन करना। 

2। एक चम्मच काली मिर्च पाउडर, आधा चम्मच चम्मच रूट पाउडर, लदान दो चम्मच अदरक और 10-12 तुलसी की पत्तियां, इन सभी चीजों को एक कप पानी में यरगिन आंच पर बनाते हैं। आधा रहने पर पी लें लें। इसे सुबह और शाम गुनगुना पीने से काफी आराम मिलता है।

3. एक कप पानी में आधा चम्मच मिर्ची और चुटकी भर नमक का जिक्र करने से भी काफी राहत मिलती है। हल्दी में मौजूद एंटी एलर्जिक, एंटी इंफ्लेमेटरी और एंटी चिपचिपा गुण राइनाइटिस से लड़ने में सच साबित हो सकते हैं।

यह भी पढ़ें: हनीबश टी के फायदे: हेल्दी और फिट रहने के लिए अपनी डाई में शामिल करें हर्बल हनीबश टी, होते हैं शानदार फायदे

[ad_2]

Source link

Umesh Solanki

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *