[ad_1]

यूपी समाचार: उत्तर प्रदेश में लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Elections) की तैयारी में हर अब मिशन मोड में लग गया है. समाजवादी पार्टी (समाजवादी पार्टी) ने लोकसभा चुनाव के लिए टिकट फाइनल करने की प्रक्रिया पर काम शुरू कर दिया है। सूत्रों के अनुसार पार्टी अब तक आपके करीब 10 से 12 लीडर्स को बैनर में हाइलाइट का संकेत दे रही है। माना जा रहा है कि अगस्त (अगस्त) और सितंबर (सितंबर) तक सभी उम्मीदवार फाइनल किए जा सकते हैं।

हफ्ते भर के चुनाव की तैयारियों में लगी सपा अब जिलेवार मीटिंग कर रही है। पार्टी की परिधि का भी मुख्य उद्देश्य यही फिक्र लेना है कि संबंधित दायरे में किस नेता का चयन किया जाए। पार्टी नेतृत्व स्थानीय स्तर पर उस नेता के पक्ष में अधिकतम संभव सहमति बनाने का प्रयास भी कर रहा है जो उनके लिए जिताऊ हो सकता है। सूत्रों के अनुसार मैनपुरी, कन्नौज, आजमगढ़ और फिरोजाबाद सीट सीट परिवार के बीच ही गए।

यूपी आईपीएस ट्रांसफर: यूपी में 8 आईपीएस अफसरों का नामांकन, इन अफसरों को मिली बड़ी जिम्मेदारी

इस सीट पर असमंजस
नियमों को लेकर तो सीट को सीट को अभी भी स्पष्ट नहीं है क्योंकि बदाम से अखिलेश यादव के चचेरे भाई धर्मेंद्र यादव सांसद रह चुके हैं। लेकिन वर्तमान में यहां से स्वामी प्रसाद मौर्या की बेटी संघमित्रा बीजेपी सांसद है। मुरादाबाद से मौजूदा सांसद एसटी हसन को ही चुनाव लड़ने की तैयारी पार्टी कर रही है। इसके अलावा बलिया, मऊ, लखीमपुर खीरी और डुमरियागंज में भी पार्टी अपने नेताओं को इशारा दे चुकी है।

सब्सक्राइबर है 15 जून को लेकर, पूरेेश यादव पहले से काम कर रहे हैं बीजेपी पर जुबानी हमला कर रहे हैं। पिछले दिनों उन्होंने दावा करते हुए कहा था, “समाजवादी पार्टी 19 दिसंबर के चुनाव में 80 की 80 राज्यों पर अपनी जीत दर्ज करेगी।” उन्होंने कहा, “सॉफ्ट हिंदुत्व के रास्ते पर जाने की हमारे लिए बात हो रही है। हम पहले से सॉफ्ट हैं अब हार्ड होने की जरूरत है। ये सॉफ्ट वाला मामला नहीं चल सकता है। सॉफ्ट होगे तो मारे जागे। हार्ड होगे तो मार वात करेंगे।”

[ad_2]

Source link

Umesh Solanki

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *