गायक अरमान मलिक जन्मदिन विशेष करियर लोकप्रिय गाने जीवनशैली अज्ञात तथ्य

0
105
Spread the love


अरमान मलिक अज्ञात तथ्य: 22 जुलाई 1995 के दिन मुंबई में साउदी अरमान आमिर अपने लव रोमांटिक गाने के लिए मशहूर हुए। वह संगीतकार परिवार से स्वामित्व रखते हैं। असल में, अरमान के दादा अनू अमीराद से भी हैं। विशेष रूप से हम आपको अरमान अमीर की जिंदगी के चांद से स्थापित कर रहे हैं।

चार साल की उम्र से ही मिली संगीत की घुट्टी

संगीतकार परिवार से सामान रखने वाले अरमान को बचपन से ही संगीत की घुट्टी मिली। असल में, वह जब चार साल के थे, उस वक्त से ही उन्हें संगीत सिखाया गया था। जब वह उम्र की थी तो यूक्रेन के सुपरमार्केट में गाने गुनगुनाने लगे थे। अरमान आमिर ने जब सा रे गा मा पा लिटिल चैंप्स के पहले भजन में भाग लिया था, उस समय उनकी उम्र महज नौ साल थी। खैर ये तो नहीं मिला, लेकिन टॉप 7 में जरूर शामिल हो गए।

बिग बी के लिए गया था पहला गाना

यूं तो बॉलीवुड डेब्यू के लिए दोस्तों ने कड़ी मेहनत की है, लेकिन अरमान आमिर के साथ ऐसा नहीं है। उन्हें तो पहला ब्रेक स्कूल की पढ़ाई के दौरान ही मिला था. एक बार ऐसा हुआ था कि एक बार अरमान आमिर स्कूल में एग्जॉम दे रहे थे। परीक्षा के दौरान ही उनकी मां से मुलाकात हुई। वहाँ तो विशाल-शेखर की जोड़ी थी, उनका एक गाना रिकॉर्ड अर वे चाहते थे। यह गाना उन्होंने अमिताभ बच्चन के साथ फिल्म भूतनाथ के लिए रिकॉर्ड किया था।

18 साल की उम्र में आई थी पहली एल्बम

इसके बाद अरमान के कदम कभी नहीं थे। जब वह 18 साल के थे, तब उन्होंने अपना पहला सोलो एल्बम रिलीज़ किया था। इसी एल्बम ने उनकी और सलमान खान की जुगलबंदी कराई।, जिसके बाद एल्बम का एक गाना फिल्म जय हो में भी रिलीज़ हुआ। हालांकि, अरमान को असली पहचान ‘मैं रहूं या न रहूं’ गाने से मिली। बता दें कि अरमान आमिर महान डबिंग आर्टिस्ट भी हैं। उन्होंने ‘स्लैमडॉग मिलिएनेर’ के रेडियो संस्करण में आर्य के किरदार को आवाज दी थी। वहीं, फिल्म ‘माई नेम इस खान’ में उन्होंने एक इंग्लिश चाइल्ड की आवाज को हिंदी में डब किया था।

द कश्मीर फाइल्स अनरिपोर्टेड का रीमेक, रुला देवी एक-एक पंडित पंडित की कहानी



Source link

Umesh Solanki

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here