भारत में पसमंदा मुसलमानों के साथ धोख़ा या संविधान में दाव पेंच।।

0
50
Spread the love

आख़िर ज़िम्मेदार कौन? जब संविधान बना तो उसमे अर्टिकल 1 से 15 में साफ साफ लिखा है की सबको समान अधिकार और न्याय मिलेगा तो 70 साल से पासमंदा मुसलमानों के साथ ना इंसाफी क्यो? उनको समान अधिकार क्यो नही दिया गया जबकि हिंदू को सामाजिक प्रस्तिथि के आधार पे आरक्षण दिया गया तो जो पसमंदा मुसलमान की भी प्रस्तिथि, स्तिथि उन्ही हिंदू दलित, हरीजन् की तरह थी तो उनको आरक्षण क्यो नही?133 लोकसभा 1265 विधानसभा सिट‌ पर मुसलमान का हक़ नहीं क्योकि अश्राफ् मुसलमानों ने ये कह के मुसलमानों को नक़सान पहुचाया की मुसलमानों में सब बराबर है कोई पसमंदा नही होता एस सी, एस टी नही होता आरक्षण से मुसलिम समाज को सीधे तौर पे 132 सीट का नुक़सान हो रहा है और सिर्फ पसमंदा मुसलमान उनके बराबर न आ जाए इसके लिए अश्राफ् मुसलमानो ने ये सियासी नुक़सान किया और सियासी ‌स्तर पर हमेशा नुक़सान में ही रहा अब महिला आरक्षण,
बटवारा से हिन्दू फ़ाएदे में । तो फिर मुसलमान बदनाम कैसे? 70 साल से बहुसंख्यक को सियासी लुटेरे गुमराह करते रहे । पटेल,नेहरु और प्रसाद 3 Clever ज़िम्मेदार और एक ना समझ बेवकूफ मौलाना आज़ाद जिन्होंने एस सी एस टी के इस आरक्षण को समझ ही नही पाए जो सामाजिक स्तिथि को देख के दिया गया, जब हिंदू और मुसलमान दोनों एक ही प्रस्तिथि मे जी रहे थे तो एक को आरक्षण और एक को ढेंगा क्यो? और उस वक़्त के जो अश्राफ् नेता थे क्या उनको ये भेद भाव समझ में नही आया था या वो नही चाहते थे की कोई पसमंदा मुसलमान उनके बराबर आये, सवाल तो बनता है।।
इरफान जामियावाला

Mohammad Irfan

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here