Home Lifestyle चिंता और अवसाद को कम करने के लिए खाएं ये सुपरफूड्स

चिंता और अवसाद को कम करने के लिए खाएं ये सुपरफूड्स

0
चिंता और अवसाद को कम करने के लिए खाएं ये सुपरफूड्स

[ad_1]

तनाव कम करने के लिए सुपरफूड: आज कल की तेजी से भागती और रिश्ता दुनिया में, हर दूसरा व्यक्ति तनाव से जूझ रहा है, तनाव के कारण और भी कई सारी उलझनें पैदा हो रही हैं। हालांकि एक स्वस्थ जीवन शैली को अपना कर,संतुलित आहार को खा कर आप चिंता और तनाव को मात दे सकते हैं। कुछ ऐसे सुपरफूड्स हैं जो ना तनाव कम करते हैं। बल्कि ओवरऑल हेल्थ को भी बढ़ावा देते हैं। आइए जानते हैं इन सुपरफूड्स के बारे में

चिंता दूर करने वाले सुपरफूड्स

ब्लूबेरी –ब्लूबेरी न केवल स्वाद वाले होते हैं बल्कि विशेष कर एंथोसायनिन से भी होते हैं, जो तनाव कम करने वाले प्रभाव दिखाते हैं। ये ऑक्सीडेटिव तनाव और सूजन से लड़ने में मदद करते हैं, ये दोनों चिंता से जुड़े हैं। जर्नल ऑफ न्यूट्रीशनल साइंस में प्रकाशित एक अध्ययन से पता चला है कि ब्लूबेरी से मूड में सुधार होता है और युवा वयस्कों में अवसाद और चिंता के लक्षण कम होते हैं। को बढ़ावा मिल सकता है।

सैल्मन –सैल्मन जैसी मछली ओमेगा -3 उच्च एसिड से भरपूर होती हैं, विशेष रूप से EPA (eicosapentaenoic acid) और DHA (docosahexaenoic acid) “ओमेगा -3 वसा मस्तिष्क कार्य में सुधार करके ऑक्सीडेटिव तनाव में सुधार और चिंता को नियंत्रित करने से किया जाता है है.आप इसके सेवन से भी चिंता औऱ तनाव से दूर रह सकते हैं

केला-केला मैग्नीशियम का अच्छा स्रोत है। यूरोपियन जर्नल ऑफ क्लिनिकल न्यूट्रिशन में प्रकाशित 2004 के एक अध्ययन ने सुझाव दिया कि मैग्नीशियम आहार से मूड में सुधार हो सकता है। एक केले में 37 मिलीग्राम मैग्नीशियम होता है जो रक्तचाप को कम करने में मदद करता है। केला मेरी हृदय गति को बनाए रखने में मदद करता है और चिंता, बेचैनी और मिजाज को नियंत्रित करने में भी मदद करता है।

फ्रैंचाइजी फल-आपराधिक साटन में विटामिन सी की सर्वोच्च मात्रा पाई जा सकती है, जो तनाव प्रबंधन में भी मदद करती है। ऐसे में आप कीवी, अंगूर, नींबू का सेवन बढ़ा सकते हैं। के लिए विटामिन सी का प्रदर्शन अच्छा देखा गया है।

हरी टी-ग्रीन टी में एल थियानिन नाम का एक खास अमीनो एसिड मौजूद होता है जो मस्तिष्क को स्वस्थ रखने वाले व्यक्ति का तनाव दूर करता है। ग्रीन टी में मौजूद ये एसिड कार्टिसोल हार्मोन भी कम होता है। कॉर्टिसॉल हार्मोन को स्ट्रेस हार्मोन कहा जाता है। इस हार्मोन के बढ़ने से व्यक्ति तनाव का शिकार हो जाता है।

अस्वीकरण: इस लेख में बताए गए नुस्खे, तरीके और सलाह पर अमल करने से पहले डॉक्टर या संबंधित विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।

नीचे स्वास्थ्य उपकरण देखें-
अपने बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) की गणना करें

आयु कैलक्यूलेटर के माध्यम से आयु की गणना करें

[ad_2]

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here