Home Lifestyle शिव पार्वती विवाह कहानी जब शिव भूत के साथ पहुंचे और अपनी शादी में बाराती को डायन बना लिया

शिव पार्वती विवाह कहानी जब शिव भूत के साथ पहुंचे और अपनी शादी में बाराती को डायन बना लिया

0
शिव पार्वती विवाह कहानी जब शिव भूत के साथ पहुंचे और अपनी शादी में बाराती को डायन बना लिया

[ad_1]

शिव पार्वती विवाह पौराणिक कथा: माता पार्वती ने भगवान शिव को पति के रूप में पाने के लिए कठोर तपस्या की थी। क्योंकि वह विवाह से पहले ही शिवजी को मन ही मन अपना पति मान चुकी थीं। पुराणों में भी शिव जी और माता पार्वती के विवाह को लेकर जिक्र मिलता है। कहा जाता है कि महाशिवरात्रि के पावन दिन में शिव-पार्वती का विवाह हुआ था।

शिव को पाना पार्वती के लिए आसान नहीं था

पार्वती राजा हिमवान और रानी मनाती की पुत्री थी। पार्वती का अर्थ पर्वतों की रानी है। माता पार्वती शिवजी से विवाह करना चाहती थी। लेकिन शिव को पाना इतना आसान नहीं था। फिर क्या था माता पार्वती ने कठोर तपस्या शुरू कर दी। पार्वती की तपस्या से तीनों लोक में हाहाकार मच गया। यहां तक ​​कि बड़े-बड़े पहाड़ भी डगमगाने लग गए। सभी देवता शिवजी के पास पहुंचे और समस्या का हल करने को कहा।

धर्म रीलों

शिवजी माता पार्वती की तपस्या से प्रसन्न हुए और उन्हें दर्शन देकर कहा कि वो किसी राजकुमार के साथ विवाह कर लें। लेकिन पार्वती ने साफ मना कर दिया। उन्होंने कहा कि वो मन ही मन शिव को अपना पति मान चुके हैं और ऐसे में किसी दूसरे व्यक्ति के साथ रहना आसान नहीं होगा। अपने प्रति पार्वती का प्रेम देखकर भोलेनाथ का मन भर गया और वे पार्वती से विवाह के लिए राजी हो गए।

विशेष बारात लेकर पार्वती से विवाह करने पहुंचे शिव

शिव-पार्वती के विवाह से जुड़ी पौराणिक कथा के अनुसार, शिव जी जब माता पार्वती से विवाह रचाने के लिए पहुंचे तो अपने साथ भूत-प्रेत और चुड़ैलों की बाराती लेकर पहुंचे। उन्हीं को शिवजी का वक्र भी किया था। शादी के लिए शिवजी की भस्म से मुड़ी हुई और हड्डियों की सामग्री पहनी गई। जब ऐसी बात बारात लेकर शिव बारातियों के साथ पार्वती के द्वार पर पहुंचे तो सभी डर गए और हैरान रह गए।

पार्वती की माता मनावती ने तो विवाह से इंकार कर दिया था। तब पार्वती ने शिव जी से प्रार्थना करते हुए कहा कि वह विवाह के रीति-रिवाजों के अनरूप तैयार हो जाएं। शिवजी मान गए और इसके बाद विश्व में शिवजी को ग्रूम्स के रूप में तैयार किया गया। जब शिवजी दूल्हा बनकर तैयार हो गए तो उनका दिव्य रूप देखकर सभी अपरिचित रह गए। रानी मनावती भी विवाह के लिए मान गई। इसके बाद बाराती-शराती, भूत-प्रेत, सभी देवताओं और सृष्टि की रचयिता ब्रह्मा जी की अस्तित्व में शिव-पार्वती का विवाह संपन्न हुआ।

ये भी पढ़ें: नीम करोली बाबा: कैसे एक विदेशी बन गया बाबा नीम करोली का भक्त, रिचर्ड अल्पर्ट से कहलाने लगा रामदास

अस्वीकरण: यहां बताई गई जानकारी सिर्फ संदेशों और सूचनाओं पर आधारित है। यहां यह बताना जरूरी है कि ABPLive.com किसी भी तरह की मान्यता, जानकारी की पुष्टि नहीं करता है। किसी भी विशेषज्ञ की जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित सलाह लें।

[ad_2]

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here