Home Lifestyle आम केमिकल से हुई है या प्राकृतिक तरीके से ऐसा पता, सिंपल सा ट्रिक आजएं

आम केमिकल से हुई है या प्राकृतिक तरीके से ऐसा पता, सिंपल सा ट्रिक आजएं

0
आम केमिकल से हुई है या प्राकृतिक तरीके से ऐसा पता, सिंपल सा ट्रिक आजएं

[ad_1]

गर्मी का मौसम काफी परेशान करने वाला होता है लेकिन सावन का राजा आम का भी यही मौसम होता है। शायद ही कोई व्यक्ति होगा जिसे हमारा खाना पसंद नहीं है। यह रसीला फल आम विटामिन सी, मैग्नीशियम, पोटेशियम और फाइबर से भरपूर होता है। स्वास्थ्य के चक्कर से भी आम का फल काफी अच्छा होता है। अगर आप केमिकल वाले आम नुकसान हैं तो आपको कई तरह की बीमारियों का सामना करना पड़ सकता है। 

केमिकल से बने आम प्राकृतिक तरीके से ऐसे पता करें

जब भी आप मार्केट से आम खरीददार आए तो इस आसान ट्रिक से पता कर सकते हैं। आम रासायनिक से पता चलता है या प्राकृतिक तरीके से। एक मटका में पानी भरकर आम डाल दें। जो आम पानी के ऊपर उपाय करते हैं तो वह केमिकल से तैयार होता है। प्राकृतिक तरीके से तैयारी आम पानी के नीचे बैठ जाती है। 

केमिकल से तैयार किया गया आम बिल्कुल पीला और चमकीला होता है। साथ ही इस पर हल्के हरे रंग के पैच होते हैं। इसका आकार भी छोटा होता है। यह टरन्स सड जाते हैं और रस टपकने लगते हैं।  

कार्बाइड वाले आम खाने से बचें

त्वचा विशेषज्ञ, डॉ। किरण सेठी ने अपने इंस्टाग्राम पर लिखा है कि अगर आप मेरी तरह हमारा खाना बहुत पसंद करते हैं। तो मेरे पास आपके लिए एक खास सलाह है। आम खाने से पहले एक बात का जरूर ध्यान दें कि आप नैचुरल रूप से भरा हुआ आम खा रहे हैं या कैमिकल से पकाए हुए आम तौर पर अपना अधिकार डाल रहे हैं आम खा रहे हैं। अशुद्ध वाले आम आपके चेहरे पर किल मुंहासे को बढ़ा सकते हैं, वहीं नैचुरल आम आपके स्वास्थ्य के लिए काफी अच्छा है। 

ज्यादा आम खाने से हो सकता है स्वास्थ्य खराब

आम खाने के बाद कुछ देर तक हमें मीठा मीठा भी लगता है इसलिए हम अपनी मिठास बढ़ाने के लिए ज्यादा चीनी का इस्तेमाल करते हैं। ऐसे में याद रहे कि ज्यादा चीनी खाने से भी चेहरे पर मुंह से आगे बढ़ते हैं। वहीं दूसरी तरफ जब भी आम सत्ता तो ज्यादा न सत्ता क्योंकि यह काफी ज्यादा मीठा होता है और ज्यादा मीठा खाने से आपकी सेहत पर बुरा असर पड़ सकता है। 

आम के चुनाव सावधानी से अलग

हालाँकि, गुरुग्राम पारस हेल्थ के एच भीतर जा रही सर्जरी के डॉ. मनदीप सिंह इसके विपरीत राय रखते हैं। आम खाने से मुंहासे नहीं होते हैं, लेकिन कभी-कभी छिलके एलर्जी पैदा करने वाले पदार्थों के कारण मुंहासे हो सकते हैं। इसके अतिरिक्त, दृढ़ अवशोषित जूस में उच्च ग्लाइसेमिक दोष होता है जो मुंहासों वाली त्वचा में दाने पैदा कर सकता है।

इस तरह के आम अधिकार

आम का उसका जूस नहीं, उसका जूस नहीं

आम के छिलके को अपनी त्वचा पर छलनी से कार्य करें

आम को सीधे न चबाएं, बल्कि कटे हुए फल को कांटे या चम्मच से अधिकारी

कच्चे आम की जगह भरा हुआ आम के व्यंजन भोजन की कोशिश करें

आयुर्वेद के अनुसार गर्म फल मुंहासे पैदा कर सकते हैं। अगर आप गर्म या गर्म आम खाने के बाद अधिक ब्रेकआउट देखते हैं, तो भोजन से पहले उन्हें ठंडा करने की कोशिश करें। . इसलिए इसे खाने से पहले ऐसे जरूर करें। अगर पानी में आम जाम होने के बाद भी आम पानी में तैरते हैं तो आप दब जाते हैं और अच्छे आम में आसानी से बिखर सकते हैं। अगर कैमिकल से भरा हुआ है तो वह आराम से पानी के ऊपर असर करता है। इसे आप आराम से जान सकते हैं। साथ ही फाइटिक एसिड और मैंगो सैप ऑयल को हटाता है जो एलर्जी को पकड़ लेता है और अतिक्रमण के पुनर्जलीकरण को बढ़ावा देता है। डॉ सेठी ने आम खाने के बाद ब्रेकआउट के जोखिम को कम करने के लिए एक टिप शेयर की है।

ये भी पढ़ें: पिस्ता हेल्थ के लिए अच्छा है… मगर ये जान ये एक दिन में कब और कितना खाना चाहिए?

[ad_2]

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here