साप्ताहिक व्रत त्योहार 5 से 11 जून 2023 आषाढ़ मास प्रारंभ कालाष्टमी संकष्टी चतुर्थी इस सप्ताह में महत्वपूर्ण पर्व

0
108
Spread the love


साप्ताहिक व्रत त्योहार 2023 (5 से 11 जून): जून महीने की शुरुआत हो चुकी है और व्रत-त्योहार के हट से यह महीना बहुत खास होने वाला है। बात करें जून माह के इस सप्ताह की तो 5 जून से 11 जून के दौरान कई महत्वपूर्ण व्रत-त्योहार देखने वाले हैं।

5 जून से आषाढ़ महीने की शुरुआत होगी, जोकि भगवान भोलेनाथ और श्रीहरि विष्णु की पूजा-आराधना के लिए विशेष फल माना जाता है। इसी के साथ इस महीने मासिक कालाष्टमी, संकष्टी चतुर्थी जैसे कई व्रत-त्योहार होने वाले हैं, वास्तव में इसका विशेष महत्व है। इस तरह से धार्मिक दृष्टिकोण से यह सप्ताह बहुत खास रहने वाला है। आइए जानते हैं 05 से 11 जून के बीच व्रत-त्योहारों के बारे में।

  • 05 जून 2023 सोमवार, आषाढ़ माह शुरुआत (आषाढ़ मास प्रारंभ 2023): 05 जून सोमवार के दिन से ही आषाढ़ महीने की शुरुआत हो रही है, जोकि 03 जुलाई को समाप्त होगी। सोमवार के दिन से आषाढ़ महीने की शुरुआत को काफी शुभ माना जा रहा है। शास्त्रों में इस माह को पूजा-पाठ और व्रत के लिए बहुत फल माना जाता है। मान्यता है कि आषाढ़ माह में किए गए पूजा-व्रत से बड़ी से मुक्ति मिलती है। इस माह में पूजा-व्रत के साथ ही स्नान-दान का भी महत्व है।
  • 07 जून 2023 बुधवार, संकष्टी चतुर्थी (संकष्टी चतुर्थी 2023): बुधवार के दिन कृष्णपिङ्गल संकष्टी चतुर्थी का व्रत रखा जाएगा। बुधवार और संकष्टी चतुर्थी दोनों ही दिन भगवान गणेश की पूजा के लिए समर्पित है। ऐसे में इस बार इस खास दिन में भगवान गणेश की पूजा की जाएगी और व्रत रखा जाएगा। संकष्टी चतुर्थी पर व्रत व्रत और पूजा-पाठ करने से भगवान गणेश की कृपा से बल, बुद्धि और धन की प्राप्ति होती है।
  • 9 जून 2023 शुक्रवार, पंचक प्रारंभ (Panchak 2023): 9 जून से पंचक की शुरुआत होगी। 9 जून सुबह 06:02 से पंचक शुरू होगा और मंगलवार 13 दोपहर 01:32 तक रहेगा। हिंदू धर्म में पंचक के पांच दिनों को अशुभ माना जाता है और इस दौरान शुभ कार्य वर्जित होते हैं।
  • 10 जून 2023 शनिवार, मासिक कालाष्टमी (कालाष्टमी 2023): हर महीने की कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को मासिक कालाष्टमी होती है। इस दिन व्रत में भगवान कालभैरव महाराज की आराधना की जाती है। इससे अकाल मृत्यु का भय समाप्त होता है और ग्रह-दोषों से भी मुक्ति मिलती है।

ये भी पढ़ें: बुद्ध अमृतवाणी: दुख से दुखी हो गया जीवन तो गौतम बुद्ध से जानिए कैसे दूर होंगे दुख

अस्वीकरण: यहां दर्ज़ सूचना साइटकेशन और जानकारियों पर आधारित है। यहां यह बताना जरूरी है कि ABPLive.com किसी भी तरह की मान्यता, जानकारी की पुष्टि नहीं करता है। किसी भी विशेषज्ञ की जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित सलाह लें।



Source link

Umesh Solanki

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here