[ad_1]

कैंसर एक खतरनाक बीमारी है। समय से इसके लक्षणों पर अगर ध्यान ना दिया जाए तो यह जानलेवा भी हो सकता है। वैश्विक स्तर पर कैंसर से बहुत से लोग प्रभावित होते हैं। यह शरीर के किसी भी हिस्से पर देखा जा सकता है। कैंसर के हर प्रकार में स्किन कैंसर सबसे आम है। त्वचा कैंसर की जानकारी को कम होती है क्योंकि लोग अक्सर त्वचा में होने वाले बदलाव को सामान्य समझ इग्नोर कर देते हैं। यह इग्नोर करना आपके लिए घातक हो सकता है। कभी-कभी कैंसर का पता इतने लंबे समय में लगता है कि इसका इलाज होना नामुमकिन हो जाता है। इसलिए इसकी चेतावनी को बहुत गंभीर होता है। अगर आपकी त्वचा में किसी भी तरह का बदलाव आता है तो सबसे पहले उसकी वजह का पता जरूर चलता है।

मेलेनोमा स्किन कैंसर का सबसे भयानक रूप होता है। साल भर में इससे 16,000 लोग डायग्नोसिस हो जाते हैं। यूके कैंसर रिसर्च के मुताबिक एक साल में कैंसर से करीब 2,340 लोगों की मौत हो जाती है। ज्यादातर स्किन कैंसर उन हिस्सों को मिल जाता है जो ज्यादा धूप के संपर्क में रहते हैं जैसे चेहरा, गर्दन और बाजू। कई बार तो यह उन हिस्सों में भी देखने को मिलता है जहां धूप बहुत मुश्किल से पहुंचती है जैसे कि पैर। बहुत से लोग टांगों में हो रहे बदलाव पर ध्यान ही नहीं देते। उनसे आगे चलकर कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

क्लीवलैंड क्लिनिक में छपी एक खबर के अनुसार डीएनए डैमेज होने के कारण सेल की असामान्य क्रेडिट की वजह से कैंसर की वृध्दि होती है। जब भी शरीर में कोशिकाओं की सक्रियता जुड़ी होती है तो यह कैंसर का कारण बनता है। अक्सर शरीर में कोशिकाओं के उन हिस्सों में होता है जहां सूरज की किरणें नहीं पहुंचती हैं। ऐसे में शरीर में किसी भी तरह के बदलान को न देखें।

स्किन कैंसर के लक्षण

1. त्वचा में अचानक तिल जैसे धब्बे धब्बे आना।
2. किसी पुराने तिल या त्वचा में लहसुन के आकार में तेजी से बदलाव आया।
3. त्वचा पर दिख रहे किसी तिल या मास अंक निशान से लगातार पपड़ी उतरना।
4. त्वचा पर लाल पपड़ीदार निशान बनना।
5. किसी जगह पर लगातार जलन महसूस होना।
6. शरीर पर किसी जगह पर लगातार खुजली होना।

स्किन कैंसर के प्रकार

1. बेसल सेल कार्सिनोमा
2. स्क्वैमस सेल कार्सिनोमा
3. मेलानोमा
4. एक्टिनिक केराटोसिस

स्किन कैंसर का इलाज

1.स्किन कैंसर का इलाज सर्जरी के माध्यम से संभव है। इसका आमतौर पर त्वचा के स्क्वैमस सेल कार्सिनोमा, या एक्टिनिक केराटोसिस के उपचार के लिए उपयोग किया जाता है।

2. रेडिएशन थेरेपी से भी कैंसर का इलाज किया जाता है। इस थेरेपी के माध्यम से कैंसर कोशिकाओं को रोका जा सकता है। इस प्रोटोकॉल में एक मशीन शरीर के अंदर कैंसर वाली जगह पर रेडिएशन भेजती है।

3. भी कैंसर के इलाज का एक तरीका है। इसमें कैंसर समग्र के विकास को रोकने के लिए दवाओं का उपयोग किया जाता है।

अस्वीकरण: इस लेख में बताए गए नुस्खे, तरीके और सलाह पर अमल करने से पहले डॉक्टर या संबंधित विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।

यह भी पढ़ें: रात भर पंखा चलाकर सोने से सेहत पर बुरा असर कैसे पड़ता है? जानिए क्या कहते हैं जानकार

नीचे स्वास्थ्य उपकरण देखें-
अपने बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) की गणना करें

आयु कैलक्यूलेटर के माध्यम से आयु की गणना करें

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *