देवशयनी एकादशी 2023: | देवशयनी एकादशी 2023: देवशयनी एकादशी 2023:

0
101
Spread the love


देवशयनी एकादशी 2023 की हार्दिक शुभकामनाएँ: साल में 24 एकादशी होती है. हिन्दू धर्म में एकादशी को सबसे श्रेष्ठ व्रत माना गया है। एकादशी व्रत के प्रताप से व्यक्ति जघन्य पापों से भी मुक्ति पाता है और मृत्यु के बाद उसे मोक्ष मिलता है। वैसे तो सभी एकादशी महत्वपूर्ण है लेकिन आषाढ़ माह के शुक्ल पक्ष की देवशयनी एकादशी मास मनी होती है, क्योंकि इस दिन जगत के पालनहार ‌विष्णु जी पाताल लोक में योग निद्रा में चले जाते हैं। इसलिए इसे हरिशयनी एकादशी भी कहा जाता है।

इस दिन से 4 महीने तक विष्णु जी का शयनकाल रहता है। इस दिन से चातुर्मास प्रारंभ हो जाते हैं। देवशयनी एकादशी संपूर्ण विधि विधान से भगवान विष्णु की पूजा की जाती है, साथ ही इस दिन लोग एक-दूसरे को शुभकामनाएं संदेश भी मांगते हैं। ऐसे में इन चुनिंदा कोट, संदेश और इमेज के माध्यम से आप भी जिले को देवशयनी एकादशी की शुभकामनाएं दे सकते हैं।

देवशयनी एकादशी का व्रत आपके पापों से मुक्ति दिलाए
इस लोक के सुख भोगते हुए अपने पसंदीदा लोक में जगह खोजें।
देवशयनी एकादशी की हार्दिक शुभकामनाएँ

सुप्ते त्वयि जगन्नाथ जगत सुप्तं भवेदिदम्
विबुद्धे त्वयि बुधयेत जगत सर्वं चराचरम्
देवशयनी एकादशी की शुभेच्छा

श्री हरि विष्णु भगवान की कृपा से आपका श्री मनोरथ सिद्ध हो
आपके जीवन में सुख शांति और समृद्धि का वास हो
देवशयनी एकादशी की बधाई

ॐ नारायणाय विद्महे, वासुदेवाय धीमहि
तन्नो विष्णु प्रचोदयात्।।
देवशयनी एकादशी की हार्दिक शुभकामनाएँ

अपराह्न अपराह्न, मृदंग अपराह्न
अपराह्न हरी की वीणा
देवशयनी एकादशी पर आप सभी को
अंततः

दो नयनों में क्यों रह रहे
निरंतर चतुर्मास
अन्तःकरण देवशयनी है
रख लो तुम पोस्ट

विष्णु मित्र का नाम है
वैकुंठ आश्रम धाम है
जगत के पालनहार को
हमारा शत-शत प्रणाम

शान्ताकारं भुजगशयनं पद्नानाभं सुरेशं।
विश्वधारं गगनसद्शं मेघवर्णं शुभद्गम्।
लक्ष्मीकान्त कमलनयनं योगिभिर्ध्यानगम्यं।
वन्दे विष्णु भवभ्यहरं सर्वलोकनाथम्।

सावन 2023: सावन में 19 साल बाद बना अनोखा संयोग, भक्तों पर बरसेगी शिव संग गौरी की कृपा

अस्वीकरण: यहां चार्टर्ड सूचना सिर्फ अभ्यर्थियों और विद्वानों पर आधारित है। यहां यह जरूरी है कि ABPLive.com किसी भी तरह के सिद्धांत, जानकारी की पुष्टि नहीं होती है। किसी भी जानकारी या सिद्धांत को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से सलाह लें।



Source link

Umesh Solanki

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here